कोरोना वायरस दुनिया मे लेकर आई 5 बड़े बदलाव

कोरोना वायरस से इस दुनिया ने कई सबक लिए हैं। कई देशों में लॉकडाउन किया गया। यह कमोबेश हर देश को समझ आ गया है कि ऐसा खतरा बताकर नहीं आएगा और उस वक्‍त बिना एक-दूसरे की मदद से संकट से उबरा नहीं जा सकेगा। आर्थिक नुकसान अपनी जगह, मगर मानवता को बचाने के लिए कई देशों को इस वायरस ने एकजुट कर दिया है। किसी भी वैश्विक महामारी के दूरगामी परिणाम होते हैं। कुछ बातें सीखी जाती हैं, कुछ पुरानी चीजें छोड़ी जाती हैं। जो बदलाव हमने पिछले कुछ दिनों में देखे हैं, वो अगर लम्बे समय तक लोग अपनाये तो काफी कुछ बदल सकता है |

नमस्‍ते है बेस्‍ट

कोरोना वायरस फैलने का सबसे ज्‍यादा खतरा संक्रमित हाथों से हैं। इंफेक्‍टेड शख्‍स किसी चीज को छूता तो वहां वायरस घर बना लेता है। ऐसे में सोशल डिस्‍टेंसिंग का फंडा निकला। अब हाथ मिलाना तो संभव नहीं, ऐसे में भारत ने दिया ‘नमस्‍ते’। अपने दोनों हाथ जोड़कर अभिवादन का ये तरीका कोरोना के दौर में छा गया। जापान में भी इस तरह का अभिवादन होता है। उम्‍मीद है कि आने वाले वक्‍त में ये चलन पूरी दुनिया में यूं ही जारी रहेगा।

वर्क फ्रॉम होम अब सच्‍चाई

कॉर्पोरेट्स लाख बहाने बना लें, ये सच है कि वर्किंग सिस्‍टम वैसा नहीं रह जाएगा। लॉकडाउन के चलते यह बात साफ हो गई कि बहुत से काम घर बैठे भी किए जा सकते हैं। बड़े और विकसित देशों में इसका चलन तो था मगर मेनस्‍ट्रीम नहीं था। कोरोना वायरस ने वर्क फ्रॉम होम को मेनस्‍ट्रीम कर दिया। 

साफ हवा, खूबसूरत आसमान

कोरोना वायरस ने दुनियाभर में काम ठप करा दिया। लोगों का घरों से निकलना बंद हो गया। फैक्ट्रियों का धुआं हवा में और केमिकल का नदी में गिरना बंद हो गया। इंसान ने प्रकृति को सांस लेने की फुर्सत दी तो बदलाव साफ नजर आया। आसमान अब नीला दिखाई देने लगा है। हवा सांस लेने लायक हुई है। चिड़‍िया चहचहाने लगी हैं। प्रदूषण के चलते कैसा माहौल बनता है, ये पिछले साल दिल्‍ली और उत्‍तर भारत के लोगों ने करीब से महसूस किया। जिस तरह लॉकडाउन ने पर्यावरण को फायदा पहुंचाया है, उससे शायद अब सरकारें सबक लेंगी। जरूरत है ऐसे फैसलों की जो पर्यावरण को कम से कम नुकसान पहुंचाएं।

हाईस्‍पीड इंटरनेट वक्‍त की जरूरत

एक तो वर्क फ्रॉम होम ने घरेलू इंटरनेट स्‍पीड बेहतर करने की प्रक्रिया शुरू करा दी है। जो नेटवर्किंग की समस्‍या अभी है, उसे दूर करने हाईस्‍पीड इंटरनेट को बढ़ावा मिलेगा। यह भी साफ हो रहा है कि कैसे प्रभावी तरीके से इंटरनेट का इस्‍तेमाल व्‍यापार को आसान बना रहा है।

वीडियो कॉन्‍फ्रेसिंग ने जगाई उम्‍मीद

कोरोना वायरस के इस समय में एक चीज जो सबसे अलग और अनूठी देखने को मिली, वो थी वीडियो कॉन्‍फ्रेसिंग के जरिए बड़ी-बड़ी बैठकों का सरलता से हो जाना। इससे कई फायदे हैं। पहला तो ये कि बड़ा खर्च बचेगा। दूसरा, हवा में ट्रैफिक कम होगा। चूंकि हर बड़े आयोजन के साथ छोटे-मोटे आयोजन भी होते हैं, ऐसे में उनके खर्च भी लगाम लगेगी। एक बड़ी समस्‍या वीवीआईपी मूवमेंट की रहती है, वीडियो कॉन्‍फ्रेसिंग उसका तोड़ है।