केंद्र सरकार के विभाग कोरोना को हराने में लगे दिन रात

केंद्र सरकार के विभाग कोरोना महामारी के बीच में ऑक्सीजन संकट को दूर करने में दिन रात जुटे हैं। एक तरफ भारतीय वायुसेना के जहाज तो दूसरी तरफ रेल मंत्रालय के ऑकड़ो पर नजर डाले तो पिछले 9 दिनो में रेलवे ने जहां 302 टन ऑक्सीजन देश के कोने कोने में पहुंचाया तो वही वायुसेना ने सिंगापुर और दुबई के साथ साथ देश के कई शहरो में कई फेरे लगाकर ऑक्सीजन की कमी को दूर करने में उठाया कदम।  

1.32 Lakh COVID-19 cases in Maharashtra, Delhi 60K cases | कोरोना:  महाराष्ट्र में 1.32 लाख हुई मरीजों की संख्या, डराने लगे दिल्ली के आंकड़े |  Hindi News, देश

 

रेलवे ने देश के कोने कोने में पहुंचाया ऑक्सीजन

19 अप्रैल को देश में पहली ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन दौड़ाई गई जिसके बाद लगातार रेलवे तेजी के साथ ऑक्सीजन को एक शहर से दूसरे शहर में पहुंचाने में लगा हुआ है। ऑकड़ो पर नजर डाले तो 302 टन ऑक्सीजन को रेलवे एक स्थान से दूसरे स्थान में पहुंचा चुका है। इतना ही नहीं रेलवे ने कोरोना मरीजों के लिए अलग अलग राज्य में कोरोना कोच भी बनाये है जिनकी संख्या करीब 4000 से अधिक है। ये कोच भोपाल दिल्ली नागपुर सहित इंदौर में तो मरीजों के लिए खोल भी दिये गये है जिसमें कुछ मरीज भी भर्ती हो गये है। इतना ही नही यूपी के फैजाबाद भदोई सहित बरेली और नजीराबाद में लगे रेलवे कोच से कुछ मरीज ठीक होकर घर भी चले गये है। रेलवे इसके साथ साथ और कई नये कोच दूसरे शहर में लगाने भी जा रहा है। गौरतलब है कि पिछले साल कोरोना से निपटने के लिये भी रेलवे ने कुछ ऐसे ही इंतजाम किये थे।

वायुसेना ने संभाला मोर्चा

दूसरी तरफ वायुसेना ने भी कोरोना आपदा के वक्त मोर्चा संभाल लिया है जिसके चलते वायुसेना का मालवाहक विमान सी-17 सऊदी और सिंगापुर से जहां ऑक्सीजन को लेकर आया तो दूसरी तरफ एक शहर से दूसरे शहर में भी वायुसेना के जहाज के चलते टैंकर को पहुंचाया गया। वही दूसरी तरफ अब सेना के रिटायर स्वास्थ कर्मचारी फिर से लोगों की सेवा के लिये अस्पतालो में काम करेंगे इस बात का ऐलान पीएम मोदी और सीडीएस विपित रावत की बैठक के बाद हुआ जिसमे साफ कहा गया कि 2 साल पहले रिटायर हुए नर्स डॉक्टर को सेना अस्पतालो में तैनात करेंगी जिससे लोगों की ज्यादा से ज्यादा मदद की जा सके। गौरतलब है कि ऑक्सीजन के साथ साथ भारी संख्या में मरीज पहुंचने के चलते कर्मियों की कमी भी कई राज्य में देखने को मिल रही है इसी कमी को दूर करने के लिये ये कदम उठाये गये है।

एयरफोर्स का मिशन ऑक्सीजन: पन्नागढ़-दिल्ली पहुंचाए गए कंटेनर्स, जर्मनी से भी  एयरलिफ्ट की तैयारी - Indian air force mission oxygen corona virus issue  delhi supply Germany - AajTak

केंद्र सरकार का हर विभाग इस आपदा से निपटने के लिये अपनी तरफ से पूरी तरह से युध्द स्तर पर लगा हुआ है। फिर वो वित्त मंत्रालय हो या फिर दूसरे सभी देश से कोरोना माहामारी को हराने में जुटे है। लेकिन सरकार की ये कवायद कुछ लोगों को नही दिख रही है और वो सरकार पर सुस्त होने का आरोप लगा रहे है लेकिन अगर अब आपके सामने कोई ऐसा कहे तो इन ऑकड़ो के जरिये आप उनको मुंह तोड़ जवाब दे सकते है।