कैप्टन तान्या शेरगिल ने सेना दिवस की परेड का नेतृत्व कर रचा इतिहास

Captain tanya shergil | PC - Dailymotion

देश के इतिहास में पहली बार किसी महिला अफसर ने सेना दिवस पर पुरुषों की परेड का नेतृत्व कर कीर्तिमान रच दिया। बुधवार को कैप्टन तानिया शेरगिल ने 72वां सेना दिवस पर यह गौरव हासिल किया।

कैप्टन तान्या गणतंत्र दिवस परेड में भी सेना की टुकड़ी का नेतृत्व करेंगी। पहली बार कोई महिला अधिकारी ने आर्मी डे परेड को लीड किया है। पंजाब के होशियारपुर के गढ़दीवाला कस्बे की रहने वाली कैप्टन तान्याो शेरगिल के बारे में खास बात यह है कि वह अपने परिवार की चौथी पीढ़ी हैं जो सेना में रहकर देश की सेवा कर रही हैं। शेरगिल सेना के सिग्नल कोर में कैप्टन हैं। बता दें कि इस बार गणतंत्र दिवस पर हमारे मुख्य अतिथि ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो हैं।

Army Day Parade

सेना दिवस पर बुधवार को पहली बार एक महिला अधिकारी कैप्टन तान्या शेरगिल पुरुषों की सभी टुकड़ी का नेतृत्व किया। इलेक्ट्रॉनिक्स ऐंड कम्युनिकेशंस में बीटेक करने वाली तान्या सेना में भर्ती होनेवाली अपने परिवार की चौथी पीढ़ी हैं। उनके पिता तोपखाने (आर्टिलरी), दादा बख्तरबंद (आर्म्ड) और परदादा सिख रेजिमेंट में पैदल सैनिक (इन्फेंट्री) के तौर पर सेवा दे चुके हैं। पिता बाद में सीआरपीएफ से जुड़े। उन्हें वीरता के लिए राष्ट्रपति के पुलिस पदक से सम्मानित किया जा चुका है।

नागपुर यूनिवर्सिटी से इलेक्ट्रॉनिक्स और कम्युनिकेशन से बीटेक करने के बाद चेन्नईई स्थिात ऑफिसर ट्रेनिंग अकेडमी से मार्च 2017 में तान्याे शेरगिल को सेना में शामिल किया गया। और सेना दिवस पर आर्मी डे परेड का नेतृत्व करनेवाली पहली महिला अधिकारी बन कैप्टन तान्या ने इतिहास रच दिया। तान्या को देशसेवा और सैन्य अनुशासन एक तरह से पारिवारिक विरासत में ही मिला है। इससे पहले पिछले साल कैप्टन भावना कस्तूरी गणतंत्र दिवस पर सभी पुरुषों का नेतृत्व करने वाली पहली महिला अधिकारी बनी थीं। तान्या की उपलब्धि इस लिहाज से महत्वपूर्ण है कि उन्होंने इंजिनियरिंग की पढ़ाई के बाद सेना में भर्ती होने का फैसला किया।

डिफेंस में परेड एडज्यूाटेंट का पद महिलाओं के लिए काफी महत्व रखता है। दिसंबर 2018 में जारी आंकड़ों के अनुसार, 4 फीसद से भी कम महिलाओं को भारतीय सेना में नियुक्तै किया जाता है वह भी केवल सहायकों की भूमिका में। हालांकि पिछले कुछ सालों में परिदृश्ये में बदलाव हुआ है। पिछले साल सितंबर में भारतीय आर्मी ने ऐलान किया कि यह जल्द ही आठ और शाखाओं में महिलाओं का प्रवेश करने जा रहा है। इस क्रम में 2021 के लिए महिला मिलिट्री पुलिस के पहले बैच को ट्रेनिंग दी जा रही है।

गौरतलब है की फील्ड मार्शल केएम करियप्पा के सम्मान में हर साल मनाए जाने वाले सेना दिवस की परेड में इस बार तीनों सेनाओं के प्रमुखों के साथ पहली बार चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत भी शामिल हुए।