पहली बार दिखी कैप्टेन कूल की मायूसी, रन आउट होने के बाद बेबस हुए धोनी

Dhoni's

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को किसी भी परिचय की ज़रुरत नहीं है| वो एक ऐसे खिलाडी हैं जिनका क्रीज़ पर होना, मुश्किल हालातों में भी टीम के जीत की उम्मीद कायम रखता है|

बीते 10 जुलाई को भारत और न्यूज़ीलैण्ड के बीच हुए क्रिकेट वर्ल्ड कप के पहले सेमी फाइनल के मुकाबले में जब टीम के दिग्गज बल्लेबाज़ आउट हुए, तब टीम का स्कोर था 71 रन पर पांच विकेट| इस समय हार्दिक पंड्या क्रीज़ पर थे, जब धोनी उनका साथ देने आये| तब टीम को जीत के लिए 27 ओवर में 169 रन बनाने थे| यह स्कोर धोनी के लिए कोई बड़ी बात नहीं थी| टीम की स्थिति बिलकुल धोनी के पक्ष में थी और भारतीय क्रिकेट प्रेमियों को भी जीत की पूरी उम्मीद थी|

MS Dhoni

लेकिन भारत का संकटमोचन कहे जाने वाले माही 48वें ओवर के तीसरे बॉल पर रन आउट हो गए और टीम के जीत की सारी उम्मीदें ख़त्म हो गयी| मुश्किल से मुश्किल हालात में भी हंसने वाले हमारे कप्तान कूल अपनी निराशा को चाहकर भी छुपा न सके| धोनी एक ऐसे खिलाडी है जो विपरीत हालातों में भी मुस्कुराते हुए नज़र आते है और आज तक उन्होंने कई मैच में भारतीय टीम को जीत दिलवाई है| वो एक बेहतरीन खिलाडी के साथ ही एक बेहतरीन कप्तान भी रहे है|

क्यों अलग है धोनी बाकि खिलाडियों से ?

India wicketkeeper MS Dhoni

कल के मुकाबले में धोनी और पंड्या जब क्रीज़ पर मौजूद थे, क्रिकेट प्रेमियों को जीत की उम्मीद बनी हुई थी| पर पंड्या ज्यादा देर तक धोनी का साथ न दे सके और ऐसा शॉट खेलकर आउट हुए जो बताता है कि धोनी और बाकी खिलाड़ियों में आखिर फर्क क्या है|

कल के मुकाबले में धोनी और पंड्या जब क्रीज़ पर मौजूद थे, क्रिकेट प्रेमियों को जीत की उम्मीद बनी हुई थी| पर पंड्या ज्यादा देर तक धोनी का साथ न दे सके और ऐसा शॉट खेलकर आउट हुए जो बताता है कि धोनी और बाकी खिलाड़ियों में आखिर फर्क क्या है|

48वें ओवर में फग्युर्सन के पहले बॉल पर अपने अनोखे अंदाज़ में छक्का लगा कर धोनी ने जीत की उम्मीद को बरक़रार रखा| पर फैन्स की उम्मीद तब टूटी जब उसी ओवर के तीसरे बॉल पर धोनी गुप्तिल के विकेट पर डायरेक्ट थ्रो मरने की वजह से मात्र कुछ इंच के फर्क से रन आउट हो गए|

माही की मायूशी साफ़ झलक रही थी

धोनी, जिन्होंने मुश्किल हालातों में भी अपने धैर्य से टीम को जीत दिलाई है, जिन्होंने अपने बड़े-बड़े रिकॉर्ड से क्रिकेट जगत में अपना वर्चस्व स्थापित किया है, आउट होने के बाद पवेलियन से बहार जाते समय उनके चेहरे पर बेबसी और मायूसी साफ़ नज़र आ रही थी|

विवादस्पद रहा धोनी का रन आउट होना

MSD Runout

मैच ख़त्म होने के बाद सोशल मीडिया पर रिपोर्ट्स आई जिसमे फैन्स ने विरोधी टीम के क्षेत्ररक्षण की स्थिति का स्क्रीनशॉट साझा किया है| इसके हिसाब से जिस बॉल पर धोनी आउट हुए वो नो बॉल थी| और इसके लिए भारत की टीम को एक फ्री हिट मिलना चाहिए था| लेकिन अंपायरों ने इस बात की तरफ ध्यान ही नहीं दिया| सच क्या है, इसकी पड़ताल अभी बाकी है| लेकिन अगर ऐसा सच में हुआ है तो ये न सिर्फ धोनी के साथ बल्कि, भारतीय क्रिकेट टीम और भारत के सभी क्रिकेट प्रेमियों के लिए बहुत ही दुखद है|

शायद अब नीली जर्सी में खेलते ना दिखें धोनी

धोनी ने अपनी हर भूमिका को पूरी निष्ठा के साथ निभाया है| शायद यहीं वजह है की वो अपने फैन्स के बीच इतने लोकप्रिय है| 350 वनडे के करियर में उनके नाम अनगिनत रिकॉर्ड है| बाकि कैप्टेन्स की तरह धोनी सिर्फ पिच ही नहीं पढ़ते बल्कि पिच से लेकर, मौसम की स्थिति, विपक्षी टीम की ताकत-कमजोरी, आउटफील्ड और हवा का रुख सब भांप लेते हैं| यहीं वजह है कि वो दुनिया के बेस्ट कप्तानो में से एक रहे है| सूत्रों के अनुसार बहुत जल्द धोनी क्रिकेट से सन्यास लेने वाले है और अब शायद ही हम उन्हें नीली जर्सी में खेलते हुए देख पाए| खैर एक बात तो निश्चित है की धोनी के खेल को और टीम के लिए उनके योगदानो को उनके फैन्स हमेशा याद रखेंगे|