देश हो या विदेश CAA पर फैले भ्रम को दूर करने के लिए सरकार ने बनाया बिग प्लान

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

CAA को लेकर जिस तरह से देश का माहौल खराब किया गया ये जगजाहिर हो चुका है। देश के लोगों के बीच इस कानून को लेकर भ्रम की स्थिति कुछ यू बनी, कि कई शहरों में तो हिंसा के चलते कई बेकसूर लोगों की जाने भी चली गई। इसी के चलते विदेश से भी कुछ स्वर ऐसे सुनाई देने लगे, जैसे ये कानून हित में नही है। लेकिन अब इसी गलतफैमी को दूर करने के लिए एकतरफ देश के भीतर मोदी सरकार ने बीड़ा उठाया है, तो दूसरी तरफ विदेश मंत्रालय ने भी CAA क्या है, ये पड़ोसी देशों को समझाने में जुट गई है।

मोदी सरकार ने संभाली कमान

न्यूज चैनल हो या फिर कोई भी जनसभा हर जगह देश के पीएम और गृहमंत्री लोगों को यही समझाने में लगे है कि CAA कानून से किसी भी देश के नागरिक को कोई भी दिक्कत नही आयेगी। खासकर अल्पसंख्यक समाज को इतना ही नही वो साफ ये भी बता रहे है, कि ये कानून नागरिकता देने के लिये लाया गया है, न की छीनने के लिए। सरकार इसके लिए लगातार विज्ञापन भी दे रही है, और तरह-तरह के तरीके अपनाकर लोगों में जानकारी भी दे रही है। इतना ही नही मोदी सरकार के मंत्रियों ने भी भ्रम को दूर करने के लिये सड़को पर उतर गये है और सीधे उन लोगों से लोहा ले रहे है जिन्होने इस कानून को लेकर माहौल खराब किया है, या फिर खराब करने की कवायद में जुटे हुए है।

मिशन मोड में आया विदेश मंत्रालय

अंतरराष्ट्रीय मीडिया में CAA  को लेकर कुछ विरोधाभासी खबरें भी चलाई गई है जिसका असर ये हुआ कि विदेश में CAA पर सवाल उठने लगे। उसको देखते हुए विदेश मंत्रालय ने तय किया है कि वह तमाम तरह के भ्रम दूर करने के लिए मित्र देशों की सरकारों के समक्ष नागरिकता संशोधन कानून को लेकर जानकारी साझा करेगा, जिससे कहीं भी कोई भ्रम की स्थिति ना रहे। यही नही  मंत्रालय ने हर देश में वहां की सरकार के अलावा स्थानीय मीडिया में भी भारतीय दूतावास के जरिए मीडिया को CAA कानून के बारे में जानकारी देने की तैयारी की है।   जिससे एक सही तस्वीर दुनिया के सामने आए और किसी भी तरह का भ्रम भारत के बारे में न रहे। सरकार के इस फैसले के बाद कई बड़े देशों का इस कानून को लेकर भारत को समर्थन भी मिलने लगा है और हालात पर नजर डाले तो विश्व समुदाय मोदी सरकार के फैसले के साथ ही खड़ी दिख रही है। मतलब साफ है कि अब सरकार ने उन लोगों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है जो देश का नाम बदनाम करने में कोई कोर कसर नही छोड़ रहे थे।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •