2024 तक देश की अर्थव्यवस्था 5 ट्रिलियन डॉलर करने का लक्ष्य

pm-modi-at-niti-aayog-meeting

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में बीते सप्ताह नीति आयोग की पांचवी बैठक हुई| बैठक में PM मोदी ने भारत की अर्थव्यवस्था को 2024 तक 5 ट्रिलियन डॉलर यानी कि 34,94,00,00 करोड़ रुपये करने का लक्ष्य तय किया है| PM मोदी का कहना है कि यह लक्ष्य चुनौतीपूर्ण है पर इसे हासिल किया जा सकता है| नीति आयोग की प्रशंसा करते हुए PM मोदी ने कहा कि “सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास” मंत्र को पूरा करने में आयोग ने अहम् भूमिका निभाई है|

PM मोदी ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को संबोधित करते हुए कहा कि लक्ष्य भले ही चुनौतीपूर्ण है पर राज्य सरकार की मेहनत से इस लक्ष्य को पूरा किया जा सकता है| PM मोदी ने कहा की राज्यों को अपनी आर्थिक क्षमता को पहचानते हुए GDP टारगेट को बढ़ाने पर काम करना होगा|

“सबका साथ-सबका विकास” मंत्र पर जोर डालते हुए PM मोदी ने कहा की नीति आयोग को इसमें सबसे अहम् भूमिका निभानी होगी और| रोजगार के साधनों को बढ़ाने के लिए निर्यात क्षेत्र को और भी मजबूत बनाना होगा जिससे रोजगार के नए रास्ते उत्पन्न होंगे| आय और रोजगार को बढ़ाने के लिए निर्यात क्षेत्र बहुत ही महत्वपूर्ण है और इसीलिए राज्यों को निर्यात प्रोत्साहन पर जोर देना चाहिए|

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उनकी सरकार अब एक गवर्नेंस सिस्टम से काम कर रही है जिसकी परिभाषा है परफॉर्मेंस, ट्रांसपेरेंसी और डिलीवरी| उन्होंने गवर्निंग कौंसिल के सदस्यों से अपील करते हुए कहा कि वे एक ऐसी सरकारी व्यवस्था तैयार करें जो काम करता हो और जिसे लोगों का विश्वास हासिल हो|

जल संरक्षण पर भी चर्चा

बैठक भारत की इकॉनमी के अलावा उपलब्ध पानी के सरंक्षण और इस्तेमाल के मामलों पर भी चर्चा हुई| PM मोदी ने कहा कि इस बार गठित जल शक्ति मंत्रालय, पानी के उचित इस्तेमाल का व्यापक दृष्टिकोण तैयार करेगा| इसके लिए उन्होंने राज्य सरकारों से भी जल संरक्षण और जल प्रबंधन से जुड़ी कई कोशिशों को एक स्तर पर लाने की अपील की| मोदी सरकार का लक्ष्य है कि 2024 तक देश के हर ग्रामीण घर तक पाइप से पानी पहुंचाया जाए|

इनके अलावा नक्सल हिंसा जैसे मुद्दों पर भी चर्चा हुई जिसपर PM ने कहा हिंसा का जवाब कड़ाई से दिया जाएगा| PM ने उन राज्यों से भी अपील की जिन्होंने अब तक आयुष्मान योजना लागु नहीं किया है और कहा कि वे इस मसले पर जल्द से जल्द केंद्र सरकार के साथ आएं| उन्हें कहा कि स्वास्थ्य और जनकल्याण हर फैसले का केंद्र बिंदू होना चाहिए|

एक के बाद एक लगातार हो रही बैठकों में अब तक PM मोदी और उनकी सरकार कई अहम् मुद्दों पर फैसले ले चुकी है| अब देखना ये है कि इन फैसलों का कार्यान्वयन तीव्र गति से हो और इसका फायदा देश की जनता को मिले|