भारत के दबाव में झुका ब्रिटेन! भारतीय वैक्सीन कोविशील्ड  को दी मान्यता

सच बात है भारत अब बदल चुका है भारत अब सुनता नहीं बल्कि सुनाता है जिसका असर है कि भारत के दबाव के आगे झुकते हुए ब्रिटेन ने भारतीय वैक्सीन को लेकर अपनी ट्रैवल एडवाइजरी बदली है। जिसके बाद कोविशील्ड लगवाने वालों को भी देश में एंट्री मिलेगी। ब्रिटिश सरकार की तरफ से जारी नए यात्रा नियमों पर विवाद के बीच भारत सरकार ने ब्रिटेन के कोविशील्ड वैक्सीन को मान्यता न देने के फैसले पर आपत्ति जताई थी। जिसके बाद अपनी ट्रैवल एडवाइजरी बदलते हुए ब्रिटेन ने भारतीय वैक्सीन लगवाने वालों को भी देश में एंट्री करने की परमिशन दे दी है।

ट्रैवल एडवाइजरी में बदलाव

ब्रिटेन ने कोविशील्ड को एक स्वीकृत वैक्सीन के रूप में शामिल करने के लिए अपनी ट्रैवल एडवाइजरी में बदलाव किया है।जिसके तहत कोविशील्ड को अब मान्यता दे दी गई है। इसके बाद अब 4 अक्टूबर से कोविशील्ड वैक्सीन लगाने वाले को ब्रिटेन अपने देश में दाखिल होने की अनुमति देगा। यूके के दिशा निर्देश के मुताबिक, “चार सूचीबद्ध टीकों के फॉर्मूलेशन, जैसे एस्ट्राजेनेका कोविशील्ड, एस्ट्राजेनेका वैक्सजेवरिया और मॉडर्न टेकेडा अप्रूव्ड वैक्सीन हैं।” हालांकि, भारतीयों को कोविशील्ड का दोनों टीका लगा होने के बावजूद क्वारंटीन में रहने की जरूरत होगी। उनका कहना है कि समस्या कोविशील्ड नहीं है बल्कि भारत में वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट पर संदेह है और इसीलिये ये कदम उठाया गया था जिसे अब बदल दिया गया है।

UK changes vaccine policy to recognise Covishield amid row over  discrimination against Indians - Coronavirus Outbreak News

भारत ने जताई थी नाराजगी

इससे पहले भारत ने ब्रिटेन के इस रुख पर नाराजगी जताते हुए चेतावनी भी दी थी कि अगर ब्रिटेन अपने नियम में बदलाव नहीं करता है तो भारत इसपर सख्त फैसला कर सकता है। विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने इस बाबत बोला था कि ब्रिटेन की सरकार का कोविशील्ड को मान्यता नहीं देने का निर्णय ‘भेदभावपूर्ण’ है। उन्होंने कहा कि इस कारण से यूके की यात्रा करने वाले हमारे नागरिकों को ये नीति प्रभावित करती है। विदेश मंत्री ने ब्रिटेन के नए विदेश सचिव के समक्ष इस मुद्दे को मजबूती से उठाया। जिसके बाद अपनी ट्रैवल एडवाइजरी में बदलाव करते हुए अब ब्रिटेन ने कोविशील्ड लगवाने वालों को भी देश में आने की इजाजत दी है।

जिस तरह से ब्रिटेन आज भारत के सामने झुका है ये नये भारत की ताकत को दर्शाता है ये बताता है कि भारत बदल चुका है और बदले भारत में भारत किसी का अपमान नही करता है तो वो अपने सम्मान के लिये हर स्तर पर जाकर लड़ने के लिये भी तैयार रहता है।