मुस्लिम तुष्टिकरण की राह पर बॉलीवुड – “छपाक” में आरोपी का मुस्लिम नाम बदल कर रखा हिन्दू नाम

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

बॉलीवुड फिल्मों का विवाद से गहरा नाता रहा है| लेकिन हाल-फिलहाल में बॉलीवुड फिल्मों एक अजीब सा ट्रेंड दिख रहा है, वो है मुस्लिम तुष्टिकरण| कला और कल्पना के नाम पर हाल के कुछ सालों में कई फिल्मों में (पीके, ओह माय गॉड इत्यादी) हिन्दू देवी-देवताओं का मजाक उड़ाया गया, और इन फिल्मों ने ताबड़तोड़ कमाई भी की|

इतना ही नहीं हिन्दू धर्म और हिन्दुओं की सरलता को दुर्बलता समझ कर कई फिल्मकार अपनी फिल्मों में तथ्यों को तोड़-मरोड़कर दिखाते हैं| हाल ही में आई फिल्म पद्मावत में ऐसा ही हुआ था और अब 10 जनवरी को रिलीज़ हो रही फिल्म ‘छपाक’ में भी ऐसा ही हो रहा है|

क्या किया गया छपाक फिल्म में

छपाक एक सच्ची घटना पर आधारित फिल्म है जो दिल्ली के एसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल की कहानी पर आधारित है| इस कहानी में दीपिका पादुकोण लक्ष्मी अग्रवाल का किरदार निभा रही हैं, फिल्म में उनका नाम बदलकर “मालती” रखा गया है|

लेकिन विवाद इस बात पर है कि फिल्म में एसिड अटैक करनेवाले आरोपी (नदीम खान) का नाम बदल कर हिन्दू नाम (राजेश) रख दिया गया है| मुस्लिम आरोपी का नाम बदलकर उसे मूवी में हिंदू दिखाने पर लोगों ने आपत्ति जताई है|

आखिर क्यों बदला नाम?

नाम बदलकर निर्माता क्या करना चाह रहे हैं? क्या वो मुस्लिमों की आपत्ति से डरते हैं और समझते हैं की हिन्दू तो शांत लोग हैं, वो कोई आपत्ति नहीं करेंगे| या फिर ये हिन्दू धर्म को बदनाम करने की साजिश की दिशा में निर्माताओं का एक कदम है|

फिल्म छपाक और अभिनेत्री दीपिका पादुकोण विवादों के घेरे में

उल्लेखनीय है कि JNU में प्रदर्शनकारियों का समर्थन करने के लिए पहुँची दीपिका पादुकोण विवादों के घेरे में आ चुकी हैं| देश विरोधी गतिविधियों में लिप्त रहने वाले अथवा देश को तोड़ने की बात करने वाले दल का विरोध करने वालों लोगों का एक बड़ा तबका अब फिल्म के विरोध में आ चूका है और #boycottchhapaak ट्विटर पर ट्रेंड हो रहा है|

लेकिन सवाल उठता है कि देश में शोबिज का करता धर्ता समझा जानेवाला बॉलीवुड आखिर मुस्लिम तुष्टिकरण की राह पर कब तक चलेगा?


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •