टाटा के साथ देश में तैयार होगा बोइंग 737 विमान

मोदी राज के आने के बाद भारत सच में अपना भाग्यविधाता बन रहा है। देश आज तेजी के साथ विकास की नई नई गाथाएं लिख रहा है और ये सब हो रहा है तो बस एक मंत्र से जो मोदी जी ने देश को दिया वो मंत्र है आत्मनिर्भर भारत का जिसका असर ये हुआ है कि देश में हर वो सामान बनाने की शुरूआत हो रही है जो पहले देश में नही तैयार होते थे। जिसे देखकर विदेशी निवेशकों का ध्यान भी देश की ओर आकर्षित हो रहा है। इसी क्रम में अमेरिकी कंपनी बोइंग  ने  टाटा एयरोस्पेस  से बड़ा करार किया है जिससे अब देश में बोइंग 737 विमान का निर्माण किया जायेगा।

भारत में तैयार होगा बोइंग 737 विमान

विश्व में भारत की छवि जिस तरह की बन रही है उसका ही असर है कि बड़े बड़े निवेशक आज भारत की तरफ रूख कर रहे हैं। जिससे भारत की ताकत विश्व में बढ़ रही है।  बोइंग कंपनी और टाटा के बीच हुआ करार इसका एक प्रमाण है। भारतीय कंपनी टाटा ग्रुप के लिए ये बड़ी उपलब्धि मानी जा रही है। इसके साथ ही भारत की हवाई और रक्षा तकनीक में भी इस समझौते से इजाफा होगा। इतना ही नहीं ये करार ये भी बता रहा है कि आज इस सेक्टर में भी भारत में बेहतर कामगार हैं तभी तो कंपनियां इस तरफ आ रही हैं। इसके साथ ही अमेरिकी कंपनी बोइंग की भी सराहना की जा रही है। जिसने एक भारतीय कंपनी पर रक्षा क्षेत्र में अहम निर्माण को लेकर भरोसा जताया। इस समझौते से केंद्र सरकार की आत्मनिर्भर भारत योजना को भी बल मिलेगा।

देश में रोजगार की आयेगी बहार

बोइंग और टाटा की इस डील का फायदा देशवासियों को सबसे ज्यादा होने वाला है क्योंकि इसके चालू होते ही रोजगार की बहार देश में देखने को मिलेंगी। वही बोइंग कंपनी की माने तो कुशल कामगार, मजबूत आधारभूत संरचना, ईज ऑफ डुइंग बिजनेस, बेहद उत्तरदायी मोदी सरकार के चलते ही ऐसा हो पाया है क्योंकि आज भारत में निवेश करना सरल हुआ है। खासकर आत्मनिर्भर योजना के लागू होने के बाद तो भारत में एक अलग ही तरह की ऊर्जा देखी जा रही है। इतना ही नही दूसरे उत्पादनो पर गौर करें तो आज हम उसको बनाने में भी आत्मनिर्भर बन रहे हैं। मसलन पहले हमारे यहां एक भी पीपीई किट नहीं बनते थे लेकिन आज हम हर दिन लाखों किट बना रहे हैं। जिसका असर ये हो रहा है कि हमारा देश आज दूसरे देशों को भी ये किट मोहइया करवा रही है। ये तो सिर्फ एक उदाहरण है लेकिन हकीकत यही है कि आज हम हर सेक्टर में उत्पादन करके आत्मनिर्भर तो बन ही रहे हैं साथ ही साथ विश्व को ये भी बताने में सक्षम हुए है कि भारत जैसा कोई नहीं।

बहरहाल टाटा और बोइंग के बीच हुआ ये करार देश को आत्मनिर्भर तो बनायेगा ही साथ ही साथ देश का मनोबल भी बढ़ायेगा क्योंकि बोइंग के आने के बाद देश में इस सेक्टर की और कंपनियां भी भारत की तरफ रूख करेगी।