बिल गेट्स ने माइक्रोसॉफ्ट से दिया इस्तीफ़ा – एक युग का अंत

माइक्रोसॉफ्ट के सह-संस्थापक बिल गेट्स ने शुक्रवार को कंपनी के निदेशक मंडल से इस्तीफा दे दिया। वह अपने सामाजिक कार्यों को ज्यादा समय देना चाहते हैं और वैश्विक शिक्षा, स्वास्थ्य, और गरीबी उन्मूलन जैसे क्षेत्रों में काम करना चाहते हैं| उनके इस्तीफे के साथ ही माइक्रोसॉफ्ट में एक युग का अंत हो गया| 64 वर्षीय बिल गेट्स ने लगभग दस साल पहले ही कंपनी के रोजाना के कार्यों में शामिल होना बंद कर दिया था|

अब निभायेंगे तकनीकी सलाहकार की भूमिका

निदेशक मंडल से इस्तीफे के बाद भी बिल गेट्स तकनीकी सलाहकार के रुप मे मार्गदर्शन के लिये हमेशा उपलब्ध होगें| माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला ने कहा, “बिल के साथ काम करना और सीखना बहुत बड़े सम्मान की बात है। उन्होंने कंपनी की स्थापना सॉफ्टवेयर और चुनौतियों को हल करने के  जुनून के साथ की थी।”

नडेला ने कहा कि वो माइक्रोसॉफ्ट के तकनीकी सलाहकार के रूप में बिल गेट्स से लाभ लेते रहेंगे। उन्होंने कहा, “मैं बिल की दोस्ती के लिए आभारी हूं और उनके साथ काम करना जारी रखना चाहता हूं।’ माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला के साथ बिल गेट्स तकनीकी सलाहकार के रूप में काम करते रहेंगे|”

शून्य से शुरुआत कर सफलता के शिखर पर पहुंचे बिल गेट्स

बिल गेट्स ने अपने कॉलेज की पढाई को बीच में ही छोड़कर अपने एक मित्र पॉल एलन के साथ माइक्रोसॉफ्ट की शुरुआत की थी| गेट्स का लक्ष्य था कि, “दुनिया के हर डेस्क पर एक पर्सनल कंप्यूटर हो, और हर पर्सनल कंप्यूटर में माइक्रोसॉफ्ट का बनाया हुआ ऑपरेटिंग सिस्टम और सॉफ्टवेयर हो|” ये कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी की बिल गेट्स का लक्ष्य पूरा हो चूका है और आज की दुनिया में शायद ही कोई ऐसा पर्सनल कंप्यूटर होगा जिसमे की माइक्रोसॉफ्ट के सॉफ्टवेयर न हों|

उल्लेखनीय है कि माइक्रोसॉफ्ट ने IBM के साथ मिलकर सबसे पहले MS DOS ऑपरेटिंग सिस्टम लांच किया था, जिसके बाद फिर माइक्रोसॉफ्ट ने पीछे मुड़कर नहीं देखा| सबसे पहले GUI इंटरफ़ेस के साथ विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम माइक्रोसॉफ्ट ने ही लांच किया था जिसके बाद की कंप्यूटर का इस्तेमाल करना एक आम इंसान के लिए भी संभव हो पाया| 

इसके बाद तो माइक्रोसॉफ्ट ने न सिर्फ ऑपरेटिंग सिस्टम बल्कि डेटाबेस, नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम्स, वेब सर्वर्स, तथा विसुअल स्टूडियो के रूप में एक के बाद एक सफलता हासिल की| फलस्वरूप बिल गेट्स दुनिया के सबसे धनी व्यक्ति बन गए और अब माइक्रोसॉफ्ट से अलग होने के बाद भी विश्व के सबसे धनी व्यक्तियों में होने का तमगा उनके नाम के साथ शुमार है|

बता दें की बिल गेट्स ने अपनी पत्नी मेलिंडा गेट्स के साथ मिलकर “बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन” की शुरुआत की और इसके सहारे वो दुनिया भर में समाजसेवा के कार्यों में जुटे हैं| उनके फाउंडेशन को फेसबुक और ओरेकल जैसी कंपनियों के संस्थापकों का समर्थन प्राप्त है|