बड़ी सोच के दिखने लगे परिणाम, देश में हो रहा तेजी से विकास

सच में देश अब बदल चुका है, हम ये ऐसे ही नही बोल रहे है बल्कि इसका उदाहरण भी आपको देने जा रहे हैं। बीते 7 साल पीछे जाये तो चुनाव का दौर हो या फिर ना हो, हमेशा एक या दो ही उद्घाटन या परियोजना की शिलान्यास की खबरें आती थी लेकिन अब अगर आपने गौर फरमाया होगा तो एक साथ हजारों करोड़ों की योजना का उद्घाटन एक ही दिन में होता है तो एक ही दिन में 2 दर्जन से अधिक ब्रिजों का शुभारंभ होता है।

Image

पीएम मोदी हजारों करोड़ रूपये की परियोजनाओं की कर रहे शुरूआत

उत्तराखंड में 17500 करोड़ रुपये से अधिक की लागत वाली छह परियोजनाओं का उद्घाटन और लखवाड़ बहुउद्देश्यीय परियोजना सहित 17 परियोजनाओं का शिलान्यास किया। इससे पहले यूपी में उन्होने कानपुर में मैट्रो तो 36200 करोड़  की गंगा एक्सप्रेस वे का निर्माण की शिलान्यास रखी तो वही  22,500 करोड़ की लागत का पूर्वाचल एक्सप्रेस वे को यूपी वालो के सौपा। इस तरह से ही दूसरे राज्य भी है जहां पीएम मोदी ने करोड़ रूपये की सौगात दी है जिससे ये पता चलता है कि सरकार हर तरफ तेजी से विकास के लिये काम करने में जुटा है फिर वो देश का कोई भी कोना क्यो ना हो!

LAC और LoC पर बने 27 पुल और 3 सड़कें देश को समर्पित

जहां पहले देश में सड़क बनना राम से काम होता था वही आज देश की सीमा पर नये निर्माण कार्यों में तेजी से काम हो रहा है। इसी क्रम में सीमा सड़क संगठन के 27 इंफ्रा प्रोजेक्ट्स का वर्चुअल उद्घाटन किया है। उन्होंने एलएसी और एलओसी तक जाने वाली सड़कों पर बने 24 पुल और 3 सड़कों को देश को समर्पित किया।  इनमें जम्मू कश्मीर में 9, लद्दाख में 5, हिमाचल प्रदेश में 5, उत्तराखंड में 3, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश में 1-1 पुल हैवहीं लद्दाख, कश्मीर और सिक्किम में 1-1 सड़क बनाई गई है। इसमें सबसे खास बात ये है कि सिक्किम में बीआरओ ने क्लास 70 का पुल तैयार किया है जिसकी मदद से भारतीय सेना के टैंकों को डोका ला तक पहुंचाया जा सकेगा। बीआरओ ने सड़कों और पुलों का जाल इसलिए बिछाया है, ताकि एलएसी और एलओसी तक भारतीय सेना  की मूवमेंट को आसान बनाया जा सके। इस साल अब तक बीआरओ ने 102 इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट को पूरा करने का काम किया है।

देश में तेजी से होते विकास के ये गवाह है जो जोर जोर से बता रहे है कि अब भारत बदल चुका है और उसका लक्ष्य सिर्फ तेजी से विकास करना है और वो इसके लिये निरंतर लगा हुआ है।