अर्थव्यवस्था सुधार पर बड़ा कदम – छह सरकारी बैंकों का हुआ विलय

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Nirmala Sitharaman announces big reforms for Public Sector Banks

भारत की अर्थव्यस्था को सुदृढ़ करने एवं भारत को 5 ट्रिलियन अर्थव्यस्था का देश बनाने को कृतसंकल्प केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को कई बड़े फैसलों का एलान किया| इनमें सबसे प्रमुख घोषणा थी देश की वितीय मामलों को संभालने वाले सरकारी बैंको के विलय की|

छह सरकारों बैंको का विलय, अब बचेंगे 12 सरकारी बैंक

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक वित्त मंत्रालय ने शुक्रवार को 10 सरकारी बैंकों के प्रमुखों को तलब किया था| जिन बैंक प्रमुखों को मंत्रालय ने तलब किया था थे यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, केनरा बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, यूनाइटेड बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, इलाहाबाद बैंक, कॉरपोरेशन बैंक, सिंडिकेट बैंक और आंध्रा बैंक|

उपरोक्त बैंकों में से अब सिर्फ पंजाब नेशनल बैंक, इंडियन बैंक, यूनियन बैंक और केनरा बैंक ही बचेंगे और बाकि बैंकों का इन चार में विलय कर दिया जायेगा ऐसी घोषणा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने की|

किसमें होगा किस बैंक का विलय

four massive bank mergers.png

सरकारी बैंकों के इस मेगा कंसॉलिडेशन प्लान के अंतर्गत अब उपरोक्त 10 में सर सिर्फ 4 बैंक ही बचेंगे जो इस प्रकार होंगे|

पंजाब नेशनल बैंक

पंजाब नेशनल बैंक में ओरिएंटल बैंक और यूनाइटेड बैंक का विलय होगा| इस विलय के बाद पंजाब नेशनल बैंक देश का दूसरा सबसे बड़ा बैंक बन जायेगा, जिसका कुल बिजनस 17.95 लाख करोड़ का होगा।

केनरा बैंक

केनरा बैंक और सिंडिकेट बैंक का विलय होगा, इस विलय के बाद ये चौथा सबसे बड़ा सरकारी बैंक बनेगा जिसका कारोबार 15.20 लाख करोड़ रुपये का होगा।

यूनियन बैंक

यूनियन बैंक में आंध्रा बैंक तथा कॉरपोरेशन बैंक का विलय होगा, इस विलय के बाद ये देश का पांचवां सबसे बड़ा सरकारी बैंक होगा, जिसका कारोबार 14.6 लाख करोड़ रुपये का होगा।

इंडियन बैंक

यूनियन बैंक में इंडियन बैंक तथा इलाहाबाद बैंक का विलय होगा, इस विलय के बाद ये देश का सातवां सबसे बड़ा सरकारी बैंक होगा, जिसका कारोबार 8.08 लाख करोड़ रुपये का होगा।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •