कोरोना को लेकर देश की छवि खराब करने वालों से हो सावधान

आज हम एक उदाहरण देकर आपको आज के कुछ लोगों की बात समझाने की कोशिश करेंगे जो इस आपदा के वक्त सिर्फ देश को दुनिया में बदनाम करने में लगे है और फिर देश में अफवाह फैला  रहे है उनके लिये ये उदाहरण बिलकुल सटीक बैठता है। दोस्तो कुछ लोग शादी में सिर्फ कमियाँ निकालने के लिये ही आते है और हल्ला मचाते है शादी बहुत खराब हुई है। ठीक उसी तरह आज देश जब आपदा से बाहर निकलने के लिये एक दूसरे के साथ मिलकर काम कर रहा है तो कुछ लोग सिर्फ नाकामी की बात करके माहौल खराब कर रहे है और लगातार मोदी जी को कोसने में लगे है जबकि मोदी जी लगातार कोरोना को रोकने के लिये काम कर रहे है।

 

दिन रात देश को बचाने में जुटे हमारे प्रधान

वैसे पिछले एक साल से ही कोरोना से निपटने के लिये मोदी सरकार कदम उठा रही है। इशके साथ साथ लगातार राज्यों को कोताही नहीं बरते की बात भी करते आये है। लेकिन अगर पिछले एक महीने की बात की जाये तो कोरोना को लेकर लगातार पीएम मोदी बैठक पर बैठक करने में जुटे हुए है। 14 अप्रैल को पीएम ने कोरोना को लेकर देश के राज्यों के गवर्नरों के साथ बैठक की तो 16 अप्रैल को उन्होने ऑक्सीजन की सप्लाई को लेकर अधिकारियों के साथ समीक्षा की। इसी तरह उन्होने 17,18, 19 और 20 अप्रैल को कोरोना को लेकर देश के बड़े बड़े डॉक्टर अधिकारियो, दवाई बनाने वाली कंपनी के अधिकारी और अपने संसदिय इलाके बनारस के लोगो से बात करके कोरोना का जायजा लिया। इसी तरह उन्होने हर दिन कोरोना को लेकर काम किया फिर वो सीएम से बात करना हो या विदेश के नेताओं से बात करके कोरोना से निपटे की नीति बनानी हो हर कदम उठाया। वही पीएम मोदी ने ऑक्सीजन प्लाट लगाने का ऐलान मंजूरी दी तो दूसरी तरफ दवा की कमी को पूरा करने के लिये आयात करने को भी हरीझड़ी दिखाई। इसके साथ साथ सेना के अधिकारियो के साथ भी उन्होने विशेष बैठक करके कोरोना को रोकने की रणनीति तैयार किया। जो ये बताता है कि पीएम लगातार कोरना को रोकने के लिये प्रयास करते रहे और राज्यों को मदद पहुंचाते रहे।

 

कुछ लोग मोदी के चलते देश को कर रहे बदनाम

जिस तरह से कोरोना को लेकर मोदी सरकार राज्य सरकार को चेतावनी दे रही थी अगर उस चेतावनी को लेकर राज्य सजग हो जाते तो शायद आज भारत को ये हालात का सामना नहीं करना पड़ा लेकिन आज लापरवाही के चलते उन लोगो को एक मौका मिल गया है जो बस इसी ताक में रहते है कि मोदी सरकार में कोई आपदा आये और वो मोदी मोदी नाम लेकर उन्हे कोसे। लेकिन आज जिस तरह से वो विश्व में भारत की छवि पेश कर रही है उससे वो क्या दिखाना चाहती है। हां ये जरूर है कि आज अव्वस्था कि स्थिति देश में बनी है लेकिन उसके बाद भी हम दूसरे मुल्कों से ज्यादा बेहतर स्थिति में इससे लड़ रहे है लेकिन कुछ लोग देस को बदनाम करने के लिये सिर्फ नाकामी दिखा कर देश की छवि को बर्बाद करने के काम कर रहे है ये वही लोग है जिन्हे मोदी की ये बैठक नही दिखती लेकिन रैली में जाना दिखता है उन्हे मोदी सरकार का ऑक्सीजन टैंकर पहुंचाना नही दिखता लेकिन ऑक्सीजन की कमी से मरने वाले दिखते है।

ऐसे लोगो से देश को बचाना होगा क्योकि इस आपदा से तो हम जीत लेंगे लेकिन इनके द्वारा फैलाये गई दुनिया में अफवाह का जवाब हम नहीं दे पायेगे । जो नये भारत के लिये किसी दर्दनाक स्थिति से कम नही होगा ऐसे में बस एक सलाह है कि अपने आसपास ऐसे लोगो से सजग रहे सावधान रहे।