देश में हो या विदेश में, मोदी सरकार अपनों का रखती पूरा ध्यान

विश्व में भारतीय अगर कही पर भी विवदा में फंसे होते है तो सबसे पहले पीएम मोदी उनके लिये आगे आते है। कुछ ऐसा ही यूक्रेन में भी देखने को मिला जब रूस और यूक्रेन के बीच जंग की नौबत के बीच वहां से भारत सरकार ने भारतीय छात्रों को एयरलिफ्ट करके स्वदेश लाये।

भारतीय छात्रों को यूक्रेन से किया गया एयरलिफ्ट

यूक्रेन और रूस जंग के बीच भारतीयों को वतन वापसी करने के लिए एअर इंडिया का विमान यूक्रेन से करीब 240 भारतीयों को लेकर इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उतरा। इसने यूक्रेन की राजधानी कीव में बोरिस्पिल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से उड़ान भरी थी। इस विमान से करीब 240 भारतीय छात्र देश पहुंचे है। यूक्रेन से दिल्ली पहुंची छात्रा ने बताया कि हमने दूतावास की सलाह का पालन किया। मुझे अपने देश में लौटकर खुशी हो रही है। गौरतलब है कि यूक्रेन में बदलते हालात के बीच भारतीय दूतावास ने भारतीयों से देश छोड़ने को कहा था, जिसके बाद स्वदेश लौटना शुरू हुआ है

विपदा के वक्त भारतीयों को किया गया है एयरलिफ्ट

ये पहला मौका नही है इससे पहले भी सरकार ने विदेश में फंसे भारतीयों को बचाने का काम किया है। कुछ दिन पहले ही अफगानिस्तान में तालिबान शासन के दौरान भारतीयों को बचाने के लिए वहां एयरलिफ्ट किया गया था। इतना ही नही खुद मोदी सरकार ने वहां से आये गुरू ग्रन्थ साहिब को लेने अपनी कैबिनेट के मंत्री को भेजा था। इसी तरह सूडान में विपरीत परिस्थिति होने पर उस वक्त के विदेश राज्य मंत्री वी के सिंह ने जाकर भारतीय लोगों को एयर लिफ्ट करके भारत लाये थे। इसी तरह कई ऐसे मौके देखे गये है जब भारतवासियों की सुरक्षा के लिए विदेश में मोदी सरकार काम करते हुए नजर आई है।

जिससे ये साफ होता है कि देश के भीतर हो या बाहर हर जगह भारतीयों की सुध ये सरकार रखती है और विपदा के समय आगे खड़ी दिखाई देती है फिर वो देश कोई भी क्यों ना हो।