ट्रैफिक रूल्स तोड़ने वाले हो जाएं सावधान, रूल्स तोड़े तो नहीं मिलेगा US,UK, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया का वीजा

 Be careful who breaks traffic rules

अगर आप देश में ट्रैफिक नियमों तोड़ने के आदी हो चुके हैं तो सावधान हो जाएं। हो सकता है कि आपको विदेश का वीजा भी न मिले। जी हां, लुधियाना पुलिस ने एक मुहिम शुरू की है, इसके तहत पुलिस शहर के लोगों से कह रही है कि ऑस्ट्रेलिया और कनाडा के दूतावासों ने उनसे ऐसे लोगों की लिस्ट मांगी है जो लुधियाना शहर में ट्रैफिक रूल्स तोड़ते हैं। लुधियाना पुलिस का कहना है कि पिछले एक साल में इन दूतावासों से हर महीने कई बार इसकी जानकारी के लिए फोन आते रहते हैं। पुलिस का कहना है कि जिन लोगों ने इन देशों में बसने के लिए वीजा का आवेदन किया है उनके बारे में यह जानकारी भी मांगी जा रही है कि इन लोगों ने अपने शहर ट्रैफिक नियमों का कितनी बार उल्लंघन किया।

पुलिस सूत्रों के अनुसार इन देशों के दूतावास पुलिस से पहले केवल आपराधिक मामलों में संलिप्त लोगों की जानकारी मांगते थे, लेकिन अब ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों की जानकारी भी मांगने लगे है। लुधियाना पुलिस का दावा है कि दूतावास की मांग पर शहरी क्षेत्र में नियम तोड़ने वालों का डाटा एकत्र करने की पहल की गई है। ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों की CCTV और चालान के माध्यम से पहचान की जा रही है। डाटा एकत्र कर संबंधित दूतावास भेजा जाएगा। इसके बाद इन देशों का लंबी अविधि का वीजा लेने में ऐसे लोगों के लिए समस्या खड़ी हो सकती है। यह भी हो सकता है कि उन्हें वीजा दिया ही न जाए।

लुधियाना पुलिस कमिश्नर राकेश अग्रवाल ने कहा कि लुधियाना से बड़ी तादाद में इन दो देशों (कनाडा और आस्ट्रेलिया) के लिए लोग वीजा के लिए आवेदन करते हैं। इस बात को ध्यान में रख कर पुलिस ने यह अभियान शुरू किया है ताकि लोग ट्रैफिक नियमों की धज्जियां न उड़ाएं। हमारे पास ऐसे लोगों की लिस्ट रहती है जो बार-बार ट्रैफिक रूल्स तोड़ते हैं।

पंजाब सरकार में ट्रैफिक एडवाइजर नवदीप असीजा का कहना है कि यह ट्रैफिक नियमों का पालन कराने और सड़क पर होने वाली मौते को रोकने के लिए बहुत भी शानदार कदम है। पंजाब के ज्यादातर लोग इन दोनों देशों के लिए वीजा या नागरिकता पाने के लिए आवेदन करते हैं। लुधियाना पुलिस की इस मुहिम का बहुत अच्छा असर होगा।

वहीं एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि दुनिया में ट्रैफिक के लिहाज से भीड़भाड़ वाले 10 प्रमुख शहरों में से चार भारत के हैं जिसमें बेंगलुरु पहले पायदान पर है जबकि मुंबई चौथे, पुणे पांचवें और राजधानी दिल्ली आठवें स्थान पर है। दिल्ली वालों के व्यस्ततम समय के दौरान गाड़ी चलाने पर हर वर्ष 190 घंटे अथार्त सात दिन 22 घंटे का समय नष्ट हो जाता है।

क्या होता है VISA

किसी भी दुसरे देश से आने वाले व्यक्ति के लिए VISA एक तरह से परमिशन लेटर होता जो की आपको ये परमिट देता है कि आप किसी दूसरे देश में रह सकते है। लेकिन वो आपके VISA पर निर्भर करता है कि आप कितने दिन दूसरे देश में रह सकते है या उस देश में आप क्या कर सकते है। वीसा के बहुत सारे टाइप होते है जो भी बताते है की कौन से काम के लिए कौन सा VISA लगेगा । वीसा की फुल फॉर्म है:
V= Visitors I= International S= Stay A= Admission

आपको बता दें, वीज़ा ऐप्लिकेशन रिजेक्ट होने के कई कारण हो सकते है, उनमे से कुछ इस प्रकार है :

1. ऐप्लिकेशन में कोई कोई गलत जानकारी दी गई हो
2. एप्लिकेंट का कोई क्रिमिनल रेकॉर्ड हो या उस पर कोई मामला पेंडिंग हो
3. उससे सुरक्षा पर किसी तरह का खतरा हो
4. उसकी इमेज या रिश्ते उसके खुद के देश में अच्छे न हों
5. वीज़ा चाहने वाले व्यक्ति के पास यात्रा के लिए कोई वैध वजह न हो
6. आमदनी का कोई वैध और कानूनी जरिया न हो
7. जिस देश में वह जा रहा है, वहां रहने का कोई इंतजाम न हो
8. बहुत शॉर्ट नोटिस पर वीज़ा के लिए अप्लाई किया हो
9. इसके पहले भी वीजा एप्लिकेशन रिजेक्ट हो चुकी हो और रिजेक्शन की वजह को दूर न किया गया हो
10. आप जिस देश में जाना चाहते हैं, उसके और आपके देश के बीच संबंध अच्छे न हों
11. इसके पहले वीज़ा या इमिग्रेशन रूल्स तोड़े हों
12. पासपोर्ट बहुत जल्द एक्सपायर होने वाला हो
13. बिना कोई वजह बताए पहले जारी किए गए वीजा का इस्तेमाल न किया हो