कोरोना को लेकर हो जाओ सावधान वरना फिर झेलना पड़ेगा नुकसान

देश में कोरोना के मामले हर दिन घट रहे है और इसलिये क्योकि देश की सरकार इस बाबत पूरी तरह से सजग है लेकिन इस बीच एक सवाल खड़ा होता है कि देश की जनता कोरोना से कितनी सजग है। आज देश के हिल स्टेशन में जिस तरह की भीड़ दिख रही है या देश के तमाम बाजारो में लोग नियम को ताक में रखकर घूम रहे है उससे तो यही लग रहा है कि देश दूसरी लहर के बाद भी कोरोना को लेकर सजग नहीं हो रहा है।

कोरोना गाइडलाइंस होती तार तार

आज देश के किसी भी हिल स्टेशन में पहुंच जाये हर जगह लोगों की ऐसी भीड़ उमड़ी है कि बस पूछो मत लेकिन ये भीड़ कही आने वाले खतरे में ना बदल जाये। इस सवाल पर हमें जरूर गौर करना चाहिये क्योकि जिस तरह से आज देशवासी नियमो को तार तार करके हिल स्टेशन हो या फिर धार्मिक नगरी या बाजार में घूम रहे है उससे देश में तीसरी लहर का खतरा बढ़ता ही जा रहा है। मजे की बात ये है कि दूसरी लहर के भयानकता को देखने के बाद भी हम नहीं सुधर रहे है। ये काफी अफसोस की बात है बिना मास्क लगाकर घर से निकलना सामाजिक दूरी के नियम को बिलकुल नहीं बनना आने वाले खतरे को बुलावा देना जैसा है। ऐसे में बाद में अगर कोई सरकार को को दोष देता है कि कोरोना को लेकर उसका इंतजाम सही नहीं है तो ये सोचने जैसा होगा। दोस्त ये भी समझना चाहिये कि हमारी एक चूक के चलते हजारो जान तो जा सकती है साथ ही लॉकडाउन लगने से देश की आर्थिक हालात खराब हो सकता हैतो कई लोगों के रोजगार फिर छिन सकते है ऐसे में हमे सावधानी जरूर बरतनी चाहिये।

सरकार पर दोष देना होगा गलत

ज्यादातर ये वो लोग ही है जो छोटी छोटी बातो में सरकार को कोसना शुरू कर देते है लेकिन अपनी तरफ से सामाजिक जिम्मेदारी को निभाने में बहुत पीछे होते है। मजे कि बात ये है कि ऐसे कई लोगो से जब पूछा जाता है कि वो नियम को क्यो नही मान रहे है तो वो बहाने बनाकर सरकार के ऊपर ही जिम्मेदारी डाल देते है तो सरकार की सख्ती के वक्त भी सरकार को ही जिम्मेदार बताते है। दोस्तो ऐसा आप मत समझियेगा कि हम सरकार के पक्ष में ही बोल रहे है लेकिन ऐसा सामान्य तौर पर आज देखा जा रहा है। वैसे तो सरकार की जिम्मेदारी है कि वो जल्द से जल्द सभी भारतीयों का टीकाकरण करके इस आपदा से देश को बचाये लेकिन सरकार की जिम्मेदारी में उसे जीत दिलाने में हमे बड़ी भूमिका अदा करनी होगी।

इसलिये हम जब घर से निकले तो नियम को पूरी तरह से माने और कोरोना को हराने में सरकार की मदद करे। क्योकि ये आपदा देश के सामुहिक प्रयास से ही खत्म होगी और पहली लहर दूसरी लहर में हमने ये दिखाया भी है लेकिन तीसरी लहर आये ना इसके लिये हम क्यो ना अभी से सजग हो जाये। बस इसीलिए आपको सावधान करना चाहता हूं।