गांव में वैक्सीन को लेकर फैलाई जा रही अफवाह से हो जाएँ सचेत!

कोरोना की दूसरी लहर में गांव में भी ये महामारी फैली है। ग्रामीण इलाको से भी कोरोना के कई मामले सामने आये है। कोरोना को पूरी तरह हराने के लिये गांवो में भी वैक्सीन अभियान चलाया जा रहा है लेकिन देश का कोई ऐसा राज्य अछूता नहीं है जहां वैक्सीन को लेकर भ्रम न हो और गांव के लोग इसे लगवाने से इंकार नहीं कर रहे हो। ऐसा क्यो और आखिर इसके पीछे की वजह क्या है चलिये हम आपको बताते है।

Reaching Remote Villages in India | Christian Reformed Church

वैक्सीन को लेकर गांवों में अफवाह किसने फैलाई

यूपी हो या बिहार या फिर झारखंड या दूसरे राज्य हर जगह गांवों के लोगों के बीच वैक्सीन को लेकर उदासीनता देखी जा रही है। जबकि पीएम मोदी खुद ग्रामीण इलाको में वैक्सीनेशन पर बल देते आये है ताकी देश में कोरोना की रफ्तार कुछ कम पड़े लेकिन इसके बावजूद भी गांवों में एक अफवाह उड़ाई गई है कि वैक्सीनेशन लेने वाले को बुखार आता है जिसके बाद उसे कोरोना हो जाता है। बस यही वजह है कि कोरोना के टीके का नाम सुनकर लोग नदी में कूद जा रहे है या फिर लाठी लेकर वैक्सीनेशन करने वाली टीम को गांव से भगा रहे है। जबकि हकीकत ये है कि वैक्सीनेशन के बाद किसी किसी को बुखार तो आता है लेकिन वो कोरोना का नहीं होता है, महज एक दिन में वो खत्म भी हो जाता है और ऐसा ज्यादातर टीके लगवाने के वक्त होता भी आया है। लेकिन कुछ लोगो ने जो देशहित में काम ना करके सिर्फ सरकार को बदनाम करके सियासी रोटी सेकना चाहते है वो इस तरह की खबर गांवों में उड़ा रहे है जो पूरी तरह से गलत है। इसी तरह से देश में वैक्सीन की कमी की भी खबर उड़ा दी गई है जो गलत है।

राज्यों को एक दो दिनो में मिलेगी 4 लाख वैक्सीन

कुछ राज्य कोरोना वैक्सीन की सप्लाई के लिए ग्लोबल टेंडर जारी करने में लगे हुए हैं। इस बीच, केंद्र सरकार ने कहा कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों  को अब तक 22,77,62,450 वैक्सीन की डोज फ्री कोस्ट कैटेगरी और डायरेक्ट स्टेट खरीद कैटेगरी के माध्यम से प्रदान की गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि इसके अलावा, 4 लाख से ज्यादा वैक्सीन डोज पाइपलाइन में हैं, जो अगले तीन दिनों में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को मिल जाएंगी। मंत्रालय ने कहा कि 1,82,21,403 से ज्यादा वैक्सीन डोज अभी भी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पास उपलब्ध हैं, जिन्हें अभी लोगों को दिया जाना बाकी है। इसके साथ साथ राज्यो से फिर से अपील है कि वो कम से कम डोज को वेस्ट करे जिससे लोगो को ज्यादा से ज्यादा फायदा हो सके।

अफवाह फैलाकर जो लोग कोरोना से जगं को कमजोर कर रहे है वो देश के विरोधी है और ऐसे लोगो को सजा भी मिलनी चाहिये लेकिन इससे पहले ऐसे लोगो के भ्रम के जाल से हम सभी को सचेत रहना चाहिये ताकी ये कोरोना से जारी जंग को कमजोर ना कर पाये।