कोरोना काल में कैसे मनेगा 15 अगस्त, गृहमंत्रालय ने जारी की एडवाइजरी

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

वैसे तो हर बार हम अपनी आजादी का पर्व 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस को काफी धूमधाम से मनाते चले आये है लेकिन इस बार कोरोना के चलते इस पर्व को मनाने में पहले कई तरह के सवाल उठाये जा रहे थे कि कैसे इस बार इस पर्व को मनाया जायेगा लेकिन गृह मंत्रालय ने इसके लिये एक गाइडलाइन जारी की है जिसमें इस तरह के कार्यक्रम होने चाहिए बताया गया है।

 

लालकिले में पीएम फहराएगे झंडा, देंगे भाषण

हर साल की तरह इस साल भी लालकिले पर पीएम झंडा लहरायेगे। मंत्रालय के अनुसार, सुबह 9 बजे प्रधानमंत्री द्वारा राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाएगा, राष्ट्रगान बजेगा, प्रधानमंत्री द्वारा स्वतंत्रता दिवस का भाषण होगा और इसके बाद गुब्बारों को आसमान में  छोड़े जाएगा। इतना ही नही इस बार लालकिले परिषद में छोटे बच्चो को नही बुलाया जाएगा। वही 1500 कोरोना वारियर्स को खासतौर पर विशेष मेहमान का दर्जा देकर न्योता भेजा जाएगा। 15 अगस्त की दोपहर को राष्ट्रपति भवन में जो ‘एट होम’ कार्यक्रम होता है उसमें भी इस बार नियमों का ध्यान रखा जाएगा। इस बार स्वतंत्रता दिवस की थीम को कोविड वॉरियर्स को समर्पित किया जाएगा। गृह मंत्रालय ने सभी राज्य सरकारों और केन्द्र शासित राज्यों को 15 अगस्त को लेकर गाइडलाइन्स भेज दी हैं, जिनमें राजधानी, जिला, ब्लॉक स्तर पर किस तरह कार्यक्रम मनाया जा सकता है।

इन बातो का रखना होगा ध्यान

गृह मंत्रालय ने स्वतंत्रता दिवस मनाने के दौरान आवश्यक नियमों का पालने करने के निर्देश दिए हैं, जैसे कि सोशल डिस्टेंसिग, मास्क पहनना, सेनेटाइजेशन, बड़ी संख्या में इक्ट्ठा ना होना आदि इसमें शामिल हैं। गृह मंत्रालय और स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा कोविड-19 से संबंधित सभी दिशा निर्देशों का पालन किया जाना चाहिए। इसके साथ साथ सरकार ने स्कूल बंद होने के चलते वहां कोई बड़ा कार्यक्रम नही करने की हिदायद दी है। राज्य सरकारों को भी स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में ज्यादा भीड़ इकट्ठा न करने को कहा गया है।

लाल किले अभेद किले में हुआ तब्दील

वैसे तो अभी 15 अगस्त आने में समय है लेकिन सुरक्षा में कोई चूक न हो इसके लिए लालकिले को अभेद किले में तब्दील कर दिया गया है। लाल किले में आने वाले पर्यटकों पर रोक लगा दी गई है, तो पूरे लालकिले को सील कर दिया गया है। पुलिस के साथ साथ विशेष जांच एजेसियां इस इलाके में गस्त कर रही है जिससे कोई भी आंतकी साया हमारे राष्ट्रिय पर्व में खलल न डाल सके। इसके साथ साथ इस बार आम नागरिको के लिए पीएम का भाषण सुनने की व्वस्था भी कम की गई है। और ये सब इस लिये क्योकि कोरोना के चलते लापरवाही न हो। सीटो का इंतजाम भी दूर दूर किया गया है यानी समाजिक दूरी का पूरा पूरा ध्यान रखा जा रहा है।

मतलब साफ है कि कोरोना के चलते स्वतंत्रता दिवस का पर्व मनाने का तरीका जरूर बदला है लेकिन जोश कम नही हो और हो भी क्यो न आखिर ये वो दिन है जिस दिन भारत ने एक नया इतिहास रचने की शुरूआत की थी और आज भी कुछ नया करने का सफर जारी है।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •