जानिए- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उपहारों की नीलामी आए से कितने करोड़?

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

पिछले महीने ई-ऑक्शन के जरिये पीएम को देश में अलग-अलग स्थानों पर प्रवास के दौरान या दिल्ली में देश-विदेश के अतिथियों से मुलाकात के दौरान भेंट में मिले उपहारों की नीलामी इंफारमेटिक्स सेंटर (एनआइसी) की वेबसाइट पर की गयी। उपहारों की ऑनलाइन नीलामी openauction.gov.in पर की गयी थी। इसके द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) को मिले उपहारों, स्मृति चिन्हों एवं अन्य चीजों की 2015 से 24 अक्तूबर 2019 तक हुई नीलामी से कुल 15.13 करोड़ रुपये प्राप्त हुए हैं। संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल (Prahlad Singh Patel) ने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में राज्यसभा (Rajyasabha) को यह जानकारी दी।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब भी किसी देश या भारत में ही किसी स्थान की आधिकारिक यात्रा पर जाते हैं तो उन्हें वहां न सिर्फ उनका गर्मजोशी से स्वागत किया जाता है, बल्कि उन्हें भेंट में उपहार भी दिए जाते हैं। मोदी के इन तोहफों में पगड़ियां, अंगवस्त्र, जैकेट, फोटो और ऐतिहासिक चीजें शामिल हैं। इसके अलावा, इसमें कई प्रकार की चित्रकारियां और टोपियाँ भी शामिल हैं।

राज्यसभा में राकेश सिन्हा ने प्रहलाद पटेल से पूछा था कि क्या मोदी के सम्मान में देश-विदेश से मिले स्मृति चिन्ह और उपहार की नीलामी कर दी गई है? इसके जवाब में मंत्री प्रहलाद पटेल ने विस्तारपूर्वक सदन को जानकारी दी। उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री को स्वदेश में भेंट किए गये स्मृति चिन्हों, उपहारों आदि की नीलामी से कुल 15.13 करोड़ रुपये प्राप्त हुए। उन्होंने कहा कि 2014 में जब से मोदी प्रधानमंत्री बने हैं, इस तरह की नीलामी को संस्कृति मंत्रालय ने तीन बार आयोजित किया है। ”

उन्होंने कहा कि यह नीलामियां 18 फरवरी से 20 फरवरी 2015, 27 जनवरी से एक अप्रैल 2019 तथा 24 सितंबर से 24 अक्तूबर 2019 के बीच आयोजित की गयी।

गौरतलब है कि इसी साल अक्टूबर में हुई ई-नीलामी में महात्मा गांधी के साथ बनाए गए मोदी के चित्र पर सबसे अधिक 25 लाख रुपये की बोली लगी थी। प्रधानमंत्री की अपनी मां से आशीर्वाद लेते हुए एक तस्वीर के लिए 20 लाख रुपये बोली लगाई गई। ई-नीलामी से हुई आमदनी ‘नमामि गंगे’ मिशन के लिए दान करने की घोषणा की गई थी।

मंत्री ने बताया कि प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) और विदेश मंत्रालय (Ministry Of External Affairs) के पास उपलब्ध अभिलेखों के अनुसार वर्ष 2014 से पहले आयोजित नीलामियों का कोई विवरण नहीं मिला है।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •