चीन हो या पाक दोनो से लोहा लेने के लिए सेना तैयार

चीन हो या पाकिस्तान अब भारत इनकी चालो को नही करेगा बर्दाशत तभी भारत ने दोनो देशो को लेकर अपनी नई रणनीति तैयार कर ली है। और सीमा पर ये दोनो देश कोई गलत कदम उटाये तो उन्हे ठोस जवाब देने के लिए भारत सेना तैयार रहे इसी क्रम में अब भारत ने पाकिस्तान से सटी सीमा पर भारत में तैयार किया गया तेजस विमान को तैनात किया है. तो वही चीन से वर्ता के बीच चीन के सुर बदल रहे है। हालाकि भारत ने साफ कर दिया है कि वो चीन के धोखे को अच्छी तरह समझ चुकी है इस लिये कोई भी कदम जल्दबाजी में नही लिया जायेगा।

तेजस के तेज ने पाक का सिर दर्द बढ़ाया

पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन में कई महीनों से तनातनी की स्थिति बनी हुई है। भारत ने सीमा पर सैन्य ताकत पहले की तुलना में काफी ज्यादा बढ़ा रखी है। इस बीच, भारतीय वायु सेना  ने पाकिस्तान की पश्चिमी सीमा पर स्वदेशी हल्के लड़ाकू विमान तेजस को तैनात किया। सरकारी सूत्रों ने बताया, ‘एलसीए तेजस को भारतीय वायु सेना द्वारा पाकिस्तान बॉर्डर के नजदीक पश्चिमी सीमा पर तैनात किया गया है। ‘ सूत्रों ने कहा कि दक्षिणी वायु कमान के तहत सुलूर से बाहर स्थित पहला एलसीए तेजस स्क्वाड्रन, 45 स्क्वाड्रन को एक ऑपरेशनल भूमिका में तैनात किया गया।स्वदेशी तेजस विमान की प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा स्वतंत्रता दिवस के भाषण के दौरान प्रशंसा की गई थी। तेजस के यहां पर तैनात होने से पाकिस्तान और चीन दोनो पर नजर रखी जा सकती है, तो किसी वक्त भी इन दोनो देशो की हिमाकत का जवाब भी दिया जा सकता है।

चीन ने फिर की वर्ता से मामला हल करने की चालबाजी वाली बात

भारत इस बार लद्दाख मामले में कोई भी कोताही नही बरतना चाहता है। ड्रैगन को उसी की भाषा में जवाब देने के लिए भारत ने सीमा में हर तरह की तैयारी भी कर रही है, हालाकि चीन इस बात को भलीभाती जान चुका है इसीलिये वो हर बार वार्ता करने की बात करके भारत को भटकाना चाहता है, तो दुनिया में ये दिखाना चाहता है, कि उससे ज्यादा कोई सांतिप्रिय देश नही है। जबकि चीन की चाल को अब दुनिया अच्छी तरह से समझ चुकी है, इसलिये वो चीन के बयानो को दरकिनारे करके भारत के साथ खड़ी दिख रही है। हालाकि चीन एक तरफ वार्ता की बात करके अच्छे रिस्ते बनाने की बात कर रहा है, तो दूसरी तरफ वो सीमा पर अभी भी पीछे हटने को लेकर रोड़े अटका रहा है। इस बीच भारत सरकार और देश की सेना ने साफ कर दिया है कि भारत एक कदम भी पीछे नही हटेगा जबतक चीन पूरी तरह से पुराने नियम के तहत पीछे नही हट जाता। वही चौकसी बढ़ाते हुए भारत ने सर्दी में भी मोर्चा संभाले रहने की तैयारी लद्दाख में इस बार कर ली है।

कुलमिलाकर चीन और पाक दोनो से एक साथ लोहा लेने के लिए भारत की तैयारी पूरी हो चुकी है। तो सेना के जवानों के हौसले भी गलवास झड़प के बाद काफी अधिक हाई है, ऐसे में अगर पाक और चीन दोनो में से कोई भी गलत एक कदम उठाता है, तो वो समझ ले, कि उसकी सामत आ गई है, क्योकि इसबार भारत का हर जवान जवाब देने के लिए पूरी तरह से तैयार भी है, और उसे जवाब देने के लिए मोदी सरकार का इंतजार भी नही करना होगा क्योकि पहले से ही मोदी सरकार ने जवानों को निपटने का अधिकार दे रखा है।