मेक इन इंडिया के तहत DRDO बनाएगा एंटी टैंक मिसाइल – इजराइल से डील रद्द

India cancels $500 ml defence deal of Spike Anti Tank Missile | प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रधानमंत्री मोदी के मेक इन इंडिया विज़न को आगे बढ़ाते हुए रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने देश में ही एंटी टैंक मिसाइल बनाने की पहल की है| DRDO की इस पहल के बाद इजराइल से एंटी टैंक मिसाइल खरीदने के लिए हुआ करार रद्द कर दिया गया है|

स्पाइक एंटी-टैंक मिसाइल खरीदने के लिए हुआ था करार

देश की सुरक्षा प्रणाली को और भी सुदृढ़ करने के लिए सरकार से इजराइल से स्पाइक एंटी-टैंक मिसाइल खरीदने के लिए करार किया था| सूत्रों के मुताबिक ये करार 500 मिलियन डॉलर यानी लगभग 35,000 करोड़ का था| इस करार के रद्द होने की आधिकारिक जानकारी इजराइल को दे दी गयी है|

DRDO कम लागत पर बनाएगा एंटी टैंक मिसाइल

मेक इन इंडिया कार्यक्रम को अनुगृहित करते हुए DRDO ने दो सालों के भीतर और कम लागत पर स्पाइक एंटी-टैंक मिसाइल जैसे ही स्वदेश में निर्मित एंटी टैंक मिसाइल बनाने का वादा किया है| DRDO हैदराबाद स्थित वीईएम टेक्नोलॉजी लिमिटेड के साथ मिलकर ये एंटी टैंक मिसाइल बनाने वाली है|

वीईएम टेक्नोलॉजी लिमिटेड लेज़र गाइडेड मिसाइल बनाने में एक अनुभवी कंपनी है और इसे DRDO की तरफ से बेस्ट टेक्नोलॉजी अवार्ड भी मिल चूका है|

DRDO कर चूका है सफल परीक्षण

सूत्रों के मुताबिक सेना के सम्बंधित अधिकारी DRDO के साथ एंटी टैंक मिसाइल के सिलसिले में मीटिंग भी कर चुके हैं| इतना ही नहीं, इस दिशा में DRDO ने काफी प्रगति कर ली है| ऐसा कहा जा रहा है कि DRDO पिछले ही साल अहमदनगर में एक सफल परीक्षण भी किया है|

उल्लेखनीय है की नरेन्द्र मोदी की सरकार देश में ही विकसित रक्षा उपकरणों के उपयोग को बढ़ावा दे रही है| अभी पिछले सप्ताह नौसेना के लिए छह पनडुब्बियों को देश में ही निर्मित करने की घोषणा हुई| भारत अब तेजी से रक्षा उपकरणों एवं अन्य हथियारों के आयातक देश से निर्यातक बनने की राह पर अग्रसर है| वो दिन दूर नहीं, जब हम सिर्फ अपनी रक्षा जरूरतों को ही पूरा नहीं कर रहे होंगे, बल्कि दुसरे देशों की रक्षा जरूरतों को पूरा करने में भी हमारे देश की अहम् भूमिका होगी|