अर्थव्यवस्था को पटरी में लाने के लिए मोदी कैबिनेट का एक और अहम फैसला

सच में ये नया भारत है यहां रुकना अब संभव नही फिर मौका कोई भी क्यो न हो। अमूमन देखा जाता है कि अगर सत्ता में बैठी पार्टी किसी राज्य में चुनाव जीतती है तो सरकार एक दो दिन जश्न में डूबी दिखाई देती है। आभार और अभिवादन का दौर देखने को मिलता है लेकिन ये मोदी सरकार है जो रात की बात रात में छोड़कर नये सूरज के साथ नये जोश के साथ जनता के हित के लिये काम करने में जुट जाती है। इस क्रम में मोदी सरकार की कैबिनेट की बैठक हुई और उसमें दिवाली से पहले कारोबार से जुड़े गई बड़े फैसले लिए गये। चलिये हम आपको बताते है कि सरकार ने क्या खास फैसले लिए है।


उत्पादन से जुड़े दस क्षेत्रों को मिलेगी प्रोत्साहन राशि

कोरोना काल में आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाने के लिये सरकार लगातार ठोस कदम उठा रही है।  सरकार ने इसके लिये पहले कई पैकेज का ऐलान भी किया था तो कई सामानो के टैक्स में भी कमी की थी जिससे कारोबार में एक बार फिर से बूम देखा जाये। इसी के चलते एक बार फिर मोदी कैबिनेट ने एक खास फैसला  लिया है जिसे सबके सामने आकर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया। प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि दिवाली से पहले हुई ये अहम बैठक थी, अब सरकार ने फैसला किया है कि उत्पादन के 10 क्षेत्रों में उत्पादन आधारित प्रोत्साहन राशि दी जाएगी, ये राशि दो लाख करोड़ रुपये की होगी। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के लिहाज से सरकार ने ये फैसला लिया है। ये राशि एडवांस केमेस्ट्री, इलेक्ट्रोनिक-टेक्नोलॉजी प्रोजेक्ट, ऑटोमोबाइल प्रोजेक्ट, टेलिकॉम नेटवर्किंग, टेक्सटाइल, सोलर, एलईडी से जुड़े अन्य क्षेत्रों को दी जाएगी। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि सरकार ने आत्मनिर्भर भारत को लेकर ये फैसला लिया है, सरकार की कोशिश है कि देश में निवेश आए और भारत मैन्युफैक्चरिंग हब बने।

मोदी नीति से कोरोबार में जगी आस

निर्मला सीतारमण के मुताबिक, दिवाली से सरकार की ओर से उत्पादन क्षेत्र को ये तोहफा दिया गया है। जिन भी क्षेत्रों को जरूरत होगी, सरकार उनके साथ है। इस पहल की शुरुआत नीति आयोग द्वारा की गई है। आपको बता दें कि इससे पहले भी केंद्र सरकार की ओर से आर्थिक रियायतों का ऐलान किया गया था। कोरोना संकट और लॉकडाउन के कारण कई उद्योगों पर फर्क पड़ा है, ऐसे में अब जब त्योहारी सीजन आया है और दोबारा सबकुछ खुलने लगा है तो फिर अर्थव्यवस्था ने रफ्तार पकड़ी है। बाजार में भी रौनक वापस लौटी हुई दिखने लगी है। खास बात ये है कि देश की शेयर बाजार में भी पिछले कई दिनो से लगातार उछाल देखी जा रही है। जो एक शुभ संकेत है।

आर्थिक व्यवस्था देश की जल्द से जल्द पटरी में लौटे इसके लिये मोदी सरकार 24*7 काम में जुटी हुई है और इसका असर दिख भी रहा है। तभी तो देश का सहयोग भी खूब सरकार को मिल रहा है।