किसानों को मोदी सरकार का एक और तोहफा – खरीफ फसल के समर्थन मूल्य में वृद्धि

gift of Modi government to farmers

अपने द्विदिया कार्यकाल में द्रुत गति के काम में लगी मोदी सरकार किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार को लेकर अत्यधिक संवेदनशील है| कृषिप्रधान देश होने के नाते, देश के किसानों की स्थिति सुधारना सबसे जरुरी है| यही कारण है कि शपथ ग्रहण के दिन से लेकर ही कृषि मंत्रालय से लेकर केंद्रीय कैबिनेट तक सभी किसानो के लिए कल्याणकारी योजना बनाने और उसके क्रियान्वयन में व्यस्त हैं|

आज बुधवार को हुई केंदीय कैबिनेट की बैठक में किसानों के लिए एक और महत्वपूर्ण फैसला लिया गया| प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट कमिटी की मीटिंग में खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य को बढ़ाने का फैसला किया गया|

जिन फसलों ने न्यूनतम समर्थन मूल्य में बढ़ोतरी हुई है उनमें सोयाबीन की कीमत 311 रुपए प्रति क्विंटल, सूरजमुखी की कीमत 262 रुपए प्रति क्विंटल, तूअर दाल की 125 रुपए प्रति क्विंटल, उड़द दाल की कीमत 100 रुपए प्रति क्विंटल, एवं तिल की कीमत 236 रुपए प्रित क्विंटल बढ़ाई गई है|

इसके अलावा भी मोदी सरकार कई अन्य योजनाओं पर काम कर रही है जिनका उद्दयेश किसानों की नकदी आय को बढ़ाना एवं उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार करना है|