घर की छत पर 6 सीटर प्लेन बनाने वाले अनमोल यादव ने की PM मोदी से मुलाकात

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Anmol Yadav, who built a 6 seater plane on the roof of the house, met PM Modi

कहते हैं सच्चे लगन से अगर कोई काम किया जाए, तो वह जरुर सफल होता है। इसका एक उदाहरण मुंबई के गोरेगांव में रहने वाले एक नौजवान पर बिल्कुल सटीक बैठता है। हम आप को एक ऐसी घटना बताने जा रहे हैं जिसे जानकर आप चौंक सकते हैं। मुंबई मे रहने वाले अनमोल यादव ने अपने ही घर की छत पर एक प्लेन का निर्माण कर दिया। और अब वो इस प्लेन को उड़ा भी सकते है। इस प्लेन को देखकर महाराष्ट्र के CM देवेद्रं फर्नाडिस ने उनको DGCA का प्रमाण पत्र भी सौंप दिया है। फडणवीस ने खुद पीएम मोदी को अनमोल के इस काम की जानकारी दी थी। अनमोल का सपना है कि वे देश में ही निर्मित छोटे विमान बनाने में सहयोग करें।

कैप्टन अनमोल यादव पेशे से पायलट हैं। उन्होंने 19 साल के लंबे संघर्ष के बाद अपने छत पर खुद से छह सीटों वाले देसी विमान बनाये। विमान को बनाते वक़्त अनमोल को कई बार आर्थिक तंगी का भी सामना करना पड़ा, फिर भी उन्होंने ने हिम्मत नहीं हारी और उन्होंने इस विमान को बना कर ही दम लिया। अनमोल अब तक इस प्रोजेक्ट पर करीब 5 करोड़ की रकम खर्च कर चुके हैं।

6 सीटर स्वदेशी विमान बनाने वाले कैप्टन अनमोल यादव ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। अनमोल की इस उपलब्धि को सरकार के मेक इन इंडिया कार्यक्रम में भी जगह मिल चुकी है। अनमोल की इसी उपलब्धि को लेकर पीएम मोदी ने उनसे मुलाकात कर स्पेशल परमिट टू फ्लाई सर्टिफिकेट सौंपा।

Captain Anmol Yadav getting certificate from pm modi

इस मुलाकात के बाद अनमोल यादव ने कहा, ‘मुझे खुशी है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस प्रोजेक्ट को फॉलो कर रहे थे। उन्होंने मुझे अपने आवास पर आमंत्रित किया। मुझसे इस प्रोजेक्ट के सिलसिले में उन्होंने कई सवाल पूछे और मदद की बात कही।

पीएम मोदी ने अनमोल के प्रयास को सराहते हुए पूछा- अब आपका सपना तो पूरा हुआ। इस पर अनमोल ने कहा कि सिर्फ मेरा ही नहीं बल्कि मेरे पूरे परिवार का सपना साकार हुआ है। उन्होंने उम्मीद जताई कि अगर उड़ान में सफलता मिलती है, तो देश में अपनी जरूरतों के हिसाब से हल्के व सस्ते विमान के निर्माण का नया दौर शुरू होगा।

कौन हैं अनमोल यादव?

अनमोल ने 90 के दशक में महज 19 साल की उम्र में अमेरिका में पायलट की ट्रेनिंग लेकर जब भारत लौटे तो यहां एक एयरक्राफ्ट खरीदने का प्रयास किया। तब उनको पता चला कि भारत में एयरक्राफ्ट नहीं बनाए जाते। उसके बाद उन्होंने खुद एयरक्राफ्ट बनाने की ठान ली। करीब 19 साल पहले चारकोप इलाके में अपने घर की छत पर ही विमान बनाना शुरू कर दिया था। अनमोल जेट एयरवेज में डेप्यूटी चीफ पायलट के पद पर काम करते हुए अकेले 6 सीट वाला एयरक्राफ्ट टीएसी-003 बनाया है और अब वो आधिकारिक रुप से इसे उड़ा भी सकते हैं। इस विमान को 13 हज़ार फीट तक उड़ान भरने की अनुमति है। यह पहली बार है की किसी निजी विमान बनाने वाले को DGCA से प्रमाण पत्र मिला है।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •