विपक्ष को हो न हो अमेरिका को है भारतीय चुनावों की निष्पक्षता पर भरोसा

विपक्षी पार्टियाँ और विपक्ष के नेता भले ही भारतीय चुनाव आयोग और उनकी कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते रहें हों, लेकिन समस्त विश्व को बदलते भारत की ईमानदारी और निष्पक्षता पर भरोसा है|

पीटीआई के हवाले से मिली खबर के मुताबिक, विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मोर्गन ओर्तागस ने वॉशिंगटन में कहा, ‘‘मैं अमेरिका के नजरिए से कहूंगी कि हमें भारतीय चुनाव प्रक्रिया की ईमानदारी एवं निष्पक्षता पर पूरा भरोसा है|” उन्होंने ये भी बताया कि चाहे किसी की भी सरकार हो, अमेरिका साथ मिल कर काम करेगा| अमेरिकी प्रतिनिधि ने कहा कि, “भारत और अमेरिका के संबंध बहुत ही मधुर हैं| व्यापार, सुरक्षा, और वैश्विक मुद्दों पर दोनों देश साथ में मिलकर काम कर रहे हैं, और दोनों देशों के बीच के संबंधों का असर विश्वव्यापी है|

यूँ तो अमेरिका कई अन्य देशों में चुनाव के दौरान अपने पर्यवेक्षक भेजता है| लेकिन भारतीय चुनाव आयोग की निष्पक्षता और योग्यता सर्वविदित है, इसीलिए अमेरिका ने भारत में अपने पर्यवेक्षक नहीं भेजे| विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र में भारतीय चुनाव आयोग ने शांतिपूर्वक मतदान संपन्न करवाया|  

लोकसभा चुनाव के लिये 11 अप्रैल से 19 मई तक सात चरणों में हुये मतदान में 90.99 करोड़ मतदाताओं में से करीब 67.11 प्रतिशत लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। भारतीय संसदीय चुनाव में यह अब तक का सबसे अधिक मतदान है।