दुश्मन देशों की नींद उड़ाएगी वायुसेना की राफेल और सुखोई की बेमिसाल जोड़ी

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

इस समय फ्रांस के मोंट डे मार्सन एयरबेस पर इंडो-फ्रेच एयरफोर्स का संयुक्त अभ्यास, गरुड़ चल रहा है| दोनों ही देशों के बेहतरीन लड़ाकू विमान इस अभ्यास में हिस्सा ले रहे हैं| बीते गुरुवार को भारतीय वायुसेना के वाइस चीफ एयर मार्शल आरकेएस भदौरिया ‘गरुड़ 6’ विमान के साथ इस अभ्यास में शामिल हुए| वैसे तो सारे ही लड़ाकू विमान दुश्मनों को ध्वस्त करने की ताकत रखते हैं पर फिर भी भारतीय वायुसेना को फ्रांस के राफेल का बेसब्री से इंतज़ार है|

वाइस चीफ एयर मार्शल आरकेएस भदौरिया

भारतीय वायुसेना का मानना है कि फ्रांस के राफेल और रूस के सुखोई-30 लड़ाकू विमानों की जोड़ी पाकिस्तान और बाकी दुश्मनों के लिए जंग के दौरान मुसीबत साबित होंगे|

मीडिया से बात करते हुए वाइस चीफ एयर मार्शल आरकेएस भदौरिया ने कहा कि, “दोनों लड़ाकू विमान जब भारतीय वायुसेना में होंगे तब बीते 14 फ़रवरी को पाकिस्तान अपने द्वारा की गयी नापाक हरकत को दोहराने के बारे में सोच भी नहीं पायेगा| दोनों विमान बेहद शक्तिशाली और अत्याधुनिक हैं, इनकी जोड़ी पाकिस्तान के लिए घटक साबित होगी|”

भदौरिया ने अपने अभ्यास के अनुभव के बारे में बताते हुए कहा कि, “राफेल में उड़ान भरना सुखद अनुभव था और इस से बहुत कुछ सीखने को मिला। इसके जंगी बेड़े में शामिल होने के बाद वायुसेना और मजबूत होगी|”

फ्रांस के साथ भारत ने 2016 में ही 36 राफेल विमान का सौदा किया था और अब तक में ये भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल भी हो चुकी होती| पर भाजपा सरकार के पहले कार्यकाल में इस सौदे को लेकर विपक्षियों द्वारा कई तरह का आघात किया गया और कई सवाल उठाये गए| जिसकी वजह से राफेल विमान अब तक भारतीय सेना को नहीं मिल पाया है| पर सारी अटकलों के परे, इस साल सितम्बर तक राफेल विमान भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल होगा|

बेहतरीन विमानों में एक है राफेल

राफेल विमान को बेहतरीन फाइटर जेट माना जाता है| इसे इस तरीके से तैयार किया गया है कि ये “ग्राउंड टू एयर” और “एयर टू एयर” दोनों स्तर पर दुश्मन को धुल चटा सकती है|

जब 27 फरवरी को राफेल की जरूरत महसूस हुई

आपको याद होगा आतंकियों द्वारा 14 फ़रवरी को पुलवामा अटैक के बाद भारतीय वायुसेना ने आतंकियों को मुहतोड़ जवाब देने के लिए आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानो पर मिराज 2000 लड़ाकू विमान के साथ एयर स्ट्राइक को अंजाम दिया था और आतंकी के ठिकानो को ध्वस्त कर दिया था| सेना की कार्यवाही से बौखलाए पाकिस्तान ने अपने 2 एफ-16 विमानों की मदद से कश्मीर में एलओसी क्रॉस कर हमले की कोशिश की थी| हालाँकि भारत के मिग-21 और सुखोई-30 विमान, इन विमानों को भारत की सीमा से बाहर खदेड़ने में कामयाब हुए और पाकिस्तान को एक बार फिर मुँह की खानी पड़ी थी| इसके बाद वायुसेना ने बयान जारी कर कहा था कि अगर आज उनके बेड़े में राफेल विमान भी शामिल होता तो पाकिस्तान ऐसी नापाक हरकत करना तो दूर, सोच भी नहीं सकता था|

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •