धारा 370 हटने के बाद कश्मीर में एक भी जान नहीं गई – राज्यपाल मलिक

370 हटने के बाद एक भी शख्स की जान नहीं गई-सत्यपाल मलिक

मोदी सरकार द्वारा कश्मीर में धारा 370 को समाप्त करने और कश्मीर के दो केन्द्रशासित प्रदेशों में पुनर्गठन के बाद से अब तक कश्मीर में एक भी जान नहीं गयी है| ये जानकारी श्रीनगर में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने दी|

राज्यपाल मलिक ने कहा कि हमारी प्राथमिकता कश्मीर में कानून व्यवस्था को बनाये रखना है और हम इस में सफल रहे हैं| पिछले 24 दिनों में एक भी व्यक्ति की जान न जाना इस बात का संकेत है की कानून व्यवस्था किस प्रकार से नियंत्रण में है, और ये हमारे लिए बड़ी उपलब्धि है|

इस मौके पर बात करते हुए राज्यपाल ने बताया कि कुपवाड़ा और हंदवाड़ा में मोबाइल फोन सेवा चालू होने जा रही है और जल्दी ही बाकी के जिलों में भी मोबाइल सेवा वापस बहाल कर दी जाएगी| इन्टरनेट पर प्रतिबंध के बारे में राज्यपाल मलिक ने कहा कि, “इन्टरनेट आतंकवादियों और पाकिस्तान के लिए एक हथियार की तरह हो गया था, जिसका उपयोग वो घाटी में शांति भंग करने के लिए कर रहे थे|

राज्य के विकास और जनकल्याण की सरकारी योजनाओं के त्वरित कार्यान्वयन के लिए राज्यपाल मलिक अधिकारियों को निर्देश दे चुके हैं, और उनका लक्ष्य है की इन सभी योजनाओं का लाभ कश्मीर की जनता को 30 दिन के अन्दर मिले|

उल्लेखनीय है की जम्मू एवं कश्मीर में बहुत ही कम नागरिकों के पास आधार कार्ड है| बाकी के नागरिकों का आधार कार्ड बनाने के लिए करीब-करीब सभी जिलों में द्रुत गति से काम चल रहा है ताकि सभी जनकल्याणकारी योजनाओं और सब्सिडी का सीधा लाभ कश्मीर की जनता को मिले|

मोदी सरकार की प्राथमिकताओं में से एक कश्मीर समस्या अब हल हो चुकी है| यहाँ के समुचित विकास के लिए सरकार का हर महकमा मुस्तैदी से लगा है और जल्दी ही कश्मीर में सब कुछ पहले से भी बेहतर स्थिति में होगा ऐसा हमारा विश्वास है|