पीएम के आने के बाद हुनर हाट की लोकप्रियता और बढ़ी, पहुंचे 15 लाख से ज्यादा लोग

19 फरवरी को हुनर हाट में पीएम मोदी के पहुंचने के बाद से यहां आने वाले लोगों की संख्या में काफी बढ़ोतरी हुई है। पीएम के आने बाद इसकी लोकप्रियता और बढ़ी है। बताया जा रहा है कि 13 फरवरी से इंडिया गेट पर शुरू हुए हुनर हाट में पिछले 11 दिनों में 15 लाख से ज्यादा लोग पहुंचे हैं।

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने बताया कि इंडिया गेट लॉन में 13 से फरवरी आयोजित ‘हुनर हाट” ऐतिहासिक एवं सफल रहा और पिछले 11 दिनों में 15 लाख से ज्यादा लोग पहुंचे हैं। यहां उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू , प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने आकर दस्तकारों का हौसला बढाया।

नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के हुनर हाट में औचक भ्रमण से दस्तकारों, शिल्पकारों, खानसामों के हुनर को पूरे विश्व में एक नई पहचान मिली है। उन्होंने कहा कि मोदी के भ्रमण के बाद हुनर हाट आने वाले लोगों की संख्या में 60 प्रतिशत से भी अधिक की वृद्धि हुई । इन 11 दिनों में 15 लाख से अधिक देश-विदेश से लोगों ने आकर ‘हुनर के उस्तादों’ की हौसला अफजाई की और ‘बावर्चीखाना’ में विभिन्न राज्यों के पारम्परिक लज़ीज़ पकवानों का लुत्फ़ उठाया।

गौरतलब है कि पीएम मोदी 19 फरवरी को दिल्ली के हुनर हाट गए थे, जहां उन्होंने शिल्पकारों और दस्तकारों से मुलाक़ात की थी। वहीं हुनर हाट में बिहार का लिट्टी चोखा खाया और चाय पी थी। इसके अलावा रविवार को हुई मन की बात में प्रधानमंत्री मोदी ने काफी विस्तार से इसका जिक्र किया और काफी तारीफ भी की।

हुनर हाट के आयोजक अल्पसंख्यक मंत्रालय के मुताबिक ना सिर्फ यहां दस्तकार और शिल्पकारों का सामान बिका बल्कि इन दस्तकार और शिल्पकारों को विदेश से भी लाखों करोड़ों का ऑर्डर मिला है। इसलिए मंत्रालय ने उनकी मदद करने का फैसला भी किया है। इसी कड़ी में मंत्रालय इन शिल्पकारों, दस्तकारों और कारीगरों को पैकेजिंग में मदद करेगी।

इसके अलावा डेढ़ लाख से ज्यादा रजिस्टर हो चुके दस्तकारों और शिल्पकारों को सरकार जेम पोर्टल पर भी रजिस्टर कराएगी। मंत्रालय के मुताबिक जेम पोर्टल पर हुनर हाट नाम से एक सेक्शन बनाया जाएगा, जिसमें सारे दस्तकार और शिल्पकारों के सामान हैं, और वह वहीँ से पोर्टल के द्वारा खरीदे जा सकेंगे।

अल्पसंख्यक मंत्रालय के मुताबिक अगला हुनर हाट 29 फरवरी से रांची में शुरू होगा। और इसके बाद 13 मार्च से चंडीगढ़ में शुरू होगा। वहीं, इसके बाद केरल के कोच्चि और कर्नाटक के बेंगलुरु में भी हुनर हाट लगाया जाएगा। मंत्रालय का लक्ष्य है कि अगले पांच साल में देश भर में ऐसे 100 हुनर हाट का आयोजन किया जाए।

PC – Twitter