पड़ोसी देशों के बाद अब कैरेबियाई देशों की मदद के लिये आगे आया भारत

जिस तरह से भारत ने मुश्किल वक्त में दूसरे देशों का साथ दिया है उससे आज भारत की सारी दुनिया में वाहवाही हो रही है। आलम ये है कि भारत की वैक्सीन डिप्लोमेसी के चलते संयुक्त राष्ट्र भारत की हर जगह तारीफ करने में पीछे नहीं हट रहेरहा। मोदी सरकार यूएन चीफ की उस चिंता को भी दूर करने में लगी है, जिसमें उन्होंने सभी देशों को समान रूप से वैक्सीन पहुंचाने पर जोर दिया था। आज विश्व के मात्र 15 देशो में 70 फीसदी वैक्सीन इस्तेमाल की जा रही है। इसके मद्देनजर अब भारत पड़ोसी देशों को वैक्सीन उपलब्ध कराने के बाद कैरेबियाई देशों का रुख कर रहा है और वहां भी वैक्सीन मुफ्त में पहुंचा रहा है।

मुफ्त में वैक्सीन दे रहा भारत

भारत अब ऐसे देशों को कोरोना वैक्सीन उपलब्ध कराने की तैयारी कर रहा है, जो महामारी से जंग में पीछे छूट रहे थे। विदेश मंत्रालय के मुताबिक, लैटिन अमेरिका, कैरैबियाई देशों और अफ्रीका महाद्वीप के कुल 49 देशों में वैक्सीन की सप्लाई की योजना बनाई  गई है। खासबात ये है कि भारत इन देशों में वैक्सीन  मुफ्त में उपलब्ध करायेंगी । गौरतलब है कि  कि वैक्सीन डिप्लोमेसी के तहत भारत ने अब तक दुनिया में वैक्सीन के 22.9 मिलियन टीके बांटे हैं, जिसमें 64 लाख से ज्यादा गरीब देशों को बतौर गिफ्ट दिए गए हैं।भारत बांग्लादेश, नेपाल, भूटान, म्यांमार, श्रीलंका आदि देशों को पहले ही वैक्सीन उपलब्ध करा चुका है। इसके अलावा उसने डोमिनियन रिपब्लिक को कोरोना के 30 हजार टीके दिए हैं। इसी तरह फरवरी की शुरुआत में भारत ने बारबाडोस को 10 हजार टीके उपलब्ध कराए थे। वहीं, संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन के लिए भी भारत ने दो लाख से ज्यादा वैक्सीन देने का वादा किया है। यही कारण है कि पूरी दुनिया भारत की वैक्सीन डिप्लोमेसी की मुरीद हो गई है।

देश में 1 करोड़ लोगों का हो चुका है वैक्सीनेशन

एक तरफ भारत विश्व में वैक्सीन मुफ्त में दे रहा है तो खुद अपने देश में भी तेजी के साथ वैक्सीनेशन कर रहा है। महज 32 दिनो में भारत 1 करोड़ लोगों से ज्यायदा के वैक्सीनेशन कर चुका है। जो अपने आप में बता रहा है कि भारत कोरोना महामारी को लेकर कितना सजग है और उसका रोडमैप इस बीमारी को हराने के लिये कितना बेहतर है। कोरोना के खिलाफ भारत की इसी कोशिश का आज विश्व मुरीद हो चुका है तभी विदेशी मीडिया हो या फिर राजनेता सभी भारत की तारीफ बुलंद आवाज में कर रही है और हो भी क्यो न आखिर भारत ने अभी तक देश में वैक्सीन लगने वालों की संख्या से 3 गुना ज्यादा टीका विश्व में निर्यात किया है जो एक बहुत बड़ा कदम है।

वैसे भी इतिहास गवाह है कि भारत युगों से मानवता को बचाने के लिये सबसे आगे रहा है। कोरोना काल में भी कुछ इसी तरह का नजारा विस्व में देखा जा सकता है। वैसे भी हम भारतीय मानवता की रक्षा को अपना धर्म समझते है और उसे पूरी निष्ठा से निभाते भी है।