आजादी के बाद अब कश्मीर का दरवाजा सबके लिये खुला

देश के उन लाखों लोगों के सपने को मोदी जी ने सच कर दिया है जो कश्मीर में अपनी खुद की जमीन होने का सपना देखते थे। क्योकि जम्मू कश्मीर में भूमि स्वामित्व अधिनियम संबंधी कानूनों में संशोधन कर दिया गया है। जिसके बाद देश का कोई भी नागरिक अब जम्मू कश्मीर में जमीन खरीद और बेच सकता है इतना ही नही सरकार के इस आदेश के बाद घाटी में निवेशकों की भी भऱमार देखी जा सकती है

बेहिचक आयेंगे निवेशक   

धारा 370 और 35A के हटने के बाद ही कश्मीर में बदलाव की बाहर दिखनी शुरू हो गई है। इसी क्रम में अब रोजगार के दरवाजे भी  खुल गये है। देश का कोई भी नागरिक घाटी में जमीन खरीद सकता है ये फैसला जरूर जम्मू कश्मीर के लिए संजीवनी का काम करेंगा। राज्य के डोमिसाइल की अनिवार्यता खत्म करने से दूसरे राज्यों के निवेशक बिना हिचक के छोटे से बड़े उद्योग खड़े कर सकेंगे। उद्योग ही नहीं, शिक्षा, चिकित्सा, पर्यटन समेत अन्य क्षेत्रों में निवेशकों की कतार लगना तय है। जब वह खुद की जमीन पर उद्योग लगाएंगे तो निवेशकों में निश्चिंतता होगी। औद्योगिक क्षेत्र में जब धड़ल्ले से निवेश होगा तो जम्मू कश्मीर के विकास में क्रांति तय है। जो कश्मीरियों के जीवन के लिये एक बहुत बड़ा परिवर्तन होगा।

विकास की राह पर आगे बढ़ रहा कश्मीर

जिस कश्मीर को हम सिर्फ आतंक के लिये जानते थे धारा 370 हटने के बाद आज वहां विकास साफ तौर पर देखा जा रहा है। आलम ये है कि गांव गांव बिजली, पानी और सड़क पहुंचाई जा रही है तो दूसरी तरफ लोगों को आर्थिक मदद देकर उनको आत्मनिर्भर भी बनाया जा रहा है। जिसका एक उदाहरण सेब कारोबार है आज सरकार नेफड के जरिये उचित मूल्य में कश्मीर के किसानों से सेब की खरीद करते है जिससे उनकी आमदनी बढ़ी है। दूसरी तरफ पाक से आये आतंकियों पर नकेल भी कसी जा रही है। जिससे कश्मीर में भय का माहौल पूरी तरह से खत्म होता दिख रहा है। खुद कश्मीर के लोग इस बदलाव को महसूस कर रहे है तभी तो वो सरकार के साथ मिलकर काम कर रहे है। जिसका उदाहरण है कि आतंक के रास्ते पर निकले युवा आज फिर से विकास की मुख्य धारा में जुड़ रहे है।

कहते है न कि अगर साफ नीयत से काम किया जाये जो विजय जरूर मिलती है। कुछ यही कश्मीर को लेकर पीएम मोदी की नीति का असर है कि आज कश्मीर भयमुक्त हो रहा है और विकास के रास्ते चल पड़ा है हां ये जरूर है कि कुछ लोगों को ये बात हजम नही हो रही है तो वो इसकी खिलाफत कर रहे है लेकिन मान के चलिये कश्मीर का हर वो नागरिक आज मोदी सरकार के साथ खड़ा है जो ये जान चुका है कि सियासत तो बहुतो ने की लेकिन काम मोदी जी ने ही किया…