PM Modi के कायल हुए Dungarpur के लोग, बार-बार कर रहे धन्यवाद

राजस्थान के दक्षिणांचल डूंगरपुर जिले में कुछ दिनों पहले रात में अंधेरे का साम्राज्य था. रोशनी के लिए ये लोग केरोसीन के दिए या लालटेन का ही उपयोग करते थे परंतु अब ऐसा नहीं है.

आजादी के बाद से अंधेरे में जीवनयापन करने वाले आदिवासी बहुल डूंगरपुर (Dungarpur) जिले के हजारों आदिवासियों के लिए पंडित दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना (Deen Dayal Upadhyaya Gram Jyoti Yojana) और सौभाग्य योजना (Saubhagya Yojana) उनके घरों के साथ उनके जीवन में रौशनी लेकर आई है.

 

दोनों ही योजनाओं में अजमेर विद्युत वितरण निगम (Ajmer Power Distribution Corporation) ने शत-प्रतिशत लक्ष्य हासिल करते हुए एक लाख 31 हजार से अधिक घरो को रोशन कर दिया है. वहीं, इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) का 100 फीसदी घरों में बिजली का सपना डूंगरपुर जिले में पूरा हो गया है.

 

राजस्थान के दक्षिणांचल डूंगरपुर जिले में कुछ दिनों पहले रात में अंधेरे का साम्राज्य था. रोशनी के लिए ये लोग केरोसीन के दिए या लालटेन का ही उपयोग करते थे परंतु अब ऐसा नहीं है. बिजली विभाग ने जिले के दुर्गम पहाड़ी क्षेत्रो में बसे एक-एक घर तक बिजली के पोल लगाते हुए बिजली पहुंचाने का काम किया है.  सरकार की पंडित दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना और सौभाग्य योजना के तहत जिले के एक लाख 31  हजार 864 परिवारों को निःशुल्क बिजली का कनेक्शन देते हुए रोशनी की सौगात प्रदान कर दी है, जिसके तहत पंडित दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना ट्वेल्थ प्लान में 71 हजार 47, पंडित दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना नई स्कीम में 26 हजार 248 परिवार और सौभाग्य योजना में 34 हजार 569 परिवारों के घरो को रोशन किया है.

 

खत्म हुआ अंधेरे का साम्राज्य

कभी रात को अंधेरे में घिरने वाले इन गांवों में अब अंधेरे का साम्राज्य जा चुका है. अब इन गांवों में रात को दीया नहीं जलता अपितु बिजली का बल्ब जलता है. यहां लगे बिजली के खंभे इन परिवारों तक रात को रोशनी पहुंचाते हैं. रात को भी गृहिणियां बिना दिया जलाए भी रोशनी में खाना बना लेती हैं. इन परिवारों ने अब पंखा भी खरीद लिया है तो कई परिवारों ने टीवी भी. रोशनी के अभाव में पढ़ाई नहीं कर सकने वाले बच्चे बिजली के सहारे अब रात में अपने घरों में ही पढ़ सकते हैं. सरकार की इस सौगात के प्रति ग्रामीण लोग कितने सुकून का अहसास कर रहे हैं, इसकी बानगी है इन ग्रामीणों के चेहरों पर खिली मुस्कान. सुकून इस बात का भी है कि ग्रामीण अब रात-बेरात, आंधी-तूफान में भी रोशनी का इंतजाम कर पा रहे हैं. 

 

पीएम को बार-बार कर रहे शुक्रिया

सरकार की संवेदनशीलता के कारण आदिवासी अंचल के हजारों परिवार रोशनी का अहसास कर काफी खुश हैं. अब ये परिवार भी देश-दुनिया के करोड़ों अरबों परिवारों की भांति रात में भी पढ़ सकते हैं, लिख सकते हैं और रोशनी के सहारे सुकून भरी अपनी जिंदगी को जी सकते है. वहीं, इसके साथ ही डूंगरपुर जिले में शत प्रतिशत घरो में बिजली पहुंचने का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना भी पूरा हुआ है.

 

Published in ZeeNews