सर्वे के मुताबिक एनडीए को पूर्ण बहुमत

Times_Now_Servey

लोकसभा चुनाव से पहले अलग-अलग सर्वे एजेंसियों द्वारा सर्वे का आना जारी है| हाल में, पहले चरण की वोटिंग से दो दिन पहले आये टाइम्स नाउ और वीएमआर का सर्वे बीजेपी के लिए शुभ संकेत दे रही है| सर्वे के मुताबिक, नैशनल डेमोक्रैटिक अलायंस यानी एनडीए को एक बार फिर पूर्ण बहुमत मिलता दिख रहा है। इस सर्वे के अनुसार, देशभर की 543 लोकसभा सीटों में से 279 सीटें एनडीए के खाते में जा सकती हैं| जबकि, कांग्रेस को 149 सीटें और अन्य दलों के खाते में 115 सीटें आ सकती है|

टाइम्स नाउ और वीएमआर का सर्वे बताता है कि बीजेपी को जहां उत्तर प्रदेश में 23 सीटों का नुकसान उठाना पड़ सकता है वहीं, पश्चिम बंगाल और ओडिशा में उसे फायदा होता दिख रहा है। वहीं, दक्षिण भारत में गठबंधन के दमपर कांग्रेस काफी सीटें जितने की सम्भावना जताई गई है| जबकि, आंध्र प्रदेश में चंद्रबाबू नायडू की टीडीपी और ओडिशा में नवीन पटनायक की बीजेडी को भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। आइए, आंकड़ो पर एक नजर डाल कर सिलसिलेवार तरीके से इस बात को समझने की कोशिश करते है कि किस प्रदेश में किस पार्टी के आगे रहने की सम्भावना है:

उत्तरप्रदेश

उत्तरप्रदेश में लोकसभा की कुल 80 सीटें है| टाइम्स नाउ और वीएमआर के सर्वे के मुताबिक उत्तरप्रदेश में एसपी-बीएसपी के गठबंधन के चलते भाजपा को लगभग 25 सीटों का नुकसान होता दिखाई दे रहा है। जहाँ 2014 में बीजेपी गठबंधन ने 73 सीटों पर अपना कब्ज़ा जमाया था वहीं इस बार बीजेपी गठबंधन को 50 सीटें मिलने का अनुमान है। जबकि एसपी-बीएसपी-आरएलडी गठबंधन को 27 और कांग्रेस को तीन सीटें मिलने की संभावना जताई जा रही है। वहीं, अगर वोट प्रतिशत की बात करें तो बीजेपी गठबंधन को 45.1 फीसदी, महागठंबधन को 37.7 फीसदी और कांग्रेस को 11.01 फीसदी वोट मिलने का अनुमान जताया गया है|

बिहार

बिहार में लोकसभा की कुल 40 सीटें है| सर्वे के मुताबिक बिहार में एनडीए को 29 और यूपीए को कुल 11 सीटों पर जीत मिलने का अनुमान जताया जा रहा है। जबकि वोट पर्सेंटज की बात करें तो यूपीए गठबंधन को 41.78 फीसदी और एनडीए को 49.1 फीसदी वोट मिल सकते हैं।

मध्यप्रदेश

मध्यप्रदेश में लोकसभा की कुल 29 सीटें है| सर्वे के मुताबिक यहाँ 15 साल बाद सरकार बनाने वाली कांग्रेस के लिए अच्छी खबर है। सर्वे के मुताबिक वह इस बार 40.92 पर्सेंट वोट शेयर के साथ 9 सीटें जीत सकती है। जबकि, 49.1 पर्सेंट वोट शेयर के साथ 20 सीटें बीजेपी के खाते में जाती दिख रही हैं।

महाराष्ट्र

महाराष्ट्र में लोकसभा की कुल 48 सीटें है| सर्वे के मुताबिक यहाँ बीजेपी-शिवसेना गठबंधन एकबार फिर से मजबूत होकर उभर सकता है। बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को जहाँ 48.15 पर्सेंट वोट शेयर के साथ 38 सीटें मिल सकती है वहीं कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन को 36.88 पर्सेंट वोट शेयर के साथ 10 सीटें मिलने के आसार हैं।

राजस्थान

राजस्थान में लोकसभा की कुल 25 सीटें है| टाइम्स नाउ और वीएमआर के सर्वे के मुताबिक सरकार बनाने के बाद यहाँ कांग्रेस को फायदा होता दिख रहा है। जहाँ, 2014 के लोकसभा चुनाव में एक भी सीट ना जीतने वाली कांग्रेस को 43.05 पर्सेंट वोट शेयर के साथ कुल सात सीटें मिलने का अनुमान है। तो वहीं, 49.50 पर्सेंट वोट शेयर के साथ बीजेपी को 18 सीटें मिलने की संभावना जताई जा रही है।

दिल्ली

लोकसभा की कुल 7 सीटों वाली दिल्ली में एकबार फिर से बीजेपी सभी सात सीटें जीत सकती है। सर्वे में 43.1 पर्सेंट वोट के साथ बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभर रही है। वहीं, आम आदमी पार्टी को 29.5 और कांग्रेस को 19.68 पर्सेंट वोट मिलने की संभावना जताई जा रही है।

गुजरात

भाजपा के गृह राज्य कहे जाने वाले गुजरात में बीजेपी को 51.37 पर्सेंट वोट शेयर के साथ 22 सीटें और कांग्रेस को 39.5 पर्सेंट वोटों के साथ मात्र चार सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं। मालूम हो कि यहाँ लोकसभा की कुल 26 सीटें है| 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने सभी 26 सीटों पर जीत हासिल की थी।

जम्मू-कश्मीर

लोकसभा की कुल 6 सीटों वाली जम्मू-कश्मीर में नैशनल कॉन्फ्रेंस वापसी करती दिखाई दे रही है। उसे छह में से चार और बीजेपी को दो सीटों पर जीत मिलने के आसार हैं। कांग्रेस और महबूबा मुफ्ती की पीपल्स डेमोक्रैटिक पार्टी का खाता भी खुलता नहीं दिखाई दे रहा है। 2014 में तीन सीटों पर बीजेपी और तीन सीटों पर पीडीपी को जीत मिली थी।

ओडिशा

बीजद शासित ओडिशा में बीजेपी अच्छा प्रदर्शन कर सकती है। उसे 40.1 पर्सेंट वोट शेयर के साथ 12 सीटें मिलने का अनुमान है। जबकि, सत्तारूढ़ बीजेडी को 34.2 पर्सेंट वोट शेयर के साथ सिर्फ आठ सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं। सर्वे के मुताबिक इसके अलावा 22.70 पर्सेंट वोट शेयर के साथ एक सीट कांग्रेस के खाते में जाती दिखाई दे रही है|

असम

टाइम्स नाउ और वीएमआर के सर्वे के मुताबिक असम में यूपीए को छह और एनडीए को कुल आठ सीटों पर जीत मिलने का अनुमान जताया गया है। जबकि वोट परसेंटेज के लिहाज से यूपीए को 45.40 पर्सेंट तो एनडीए को 47.50 पर्सेंट वोट मिलने की उम्मीद जताई गई है|

झारखंड

लोकसभा की कुल 14 सीटें वाले झारखंड में गठबंधन बनाने का फायदा कांग्रेस को मिलता दिखाई दे रहा है। सर्वे के मुताबिक 2014 में एक भी सीट ना जीत पाने वाली कांग्रेस के गठबंधन को इस बार सात सीटों पर जीत मिल सकती है। जबकि, पांच सीटों के नुकसान के साथ बीजेपी को सात सीटों के साथ ही संतोष करना पड़ सकता है। वहीं अगर वोट परसेंटेज के लिहाज से बात करे तो बीजेपी को 47.5 पर्सेंट तो यूपीए को 45.43 फीसदी वोट मिलने के आसार हैं।

पश्चिम बंगाल

सर्वे के मुताबिक टीएमसी के गढ़ पश्चिम बंगाल में इस बार खुद टीएमसी को तीन सीटों का नुकसान होने का अनुमान है। जहाँ 37.5 पर्सेंट वोट शेयर के साथ टीएमसी को 31, तो बीजेपी 31.3 पर्सेंट वोट शेयर के साथ 9,और इसके अलावा कांग्रेस और लेफ्ट को दो-दो सीटें मिलने की अनुमान जताई गई है|

हिमाचल प्रदेश

लोकसभा की 4 सीटें वाले हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस एक सीट पर जीत हासिल कर सकती है और उसे 42.83 पर्सेंट वोट मिलने का अनुमान है। जबकि, 51.07 वोट पर्सेंट के साथ बीजेपी तीन सीटों पर जीत हासिल कर सकती है।

पंजाब

पंजाब में इस बार कांग्रेस की वापसी के आसार दिख रहे हैं। 36.9 पर्सेंट वोट शेयर के साथ कांग्रेस को 11 सीटों पर जीत मिलने का अनुमान है। वहीं, बीजेपी और अकाली गठबंधन को कुल 32.1 पर्सेंट वोट मिल सकते हैं और उसे केवल दो सीटों से संतोष करना पड़ सकता है। जबकि, 2014 में चार सीटें जीतने वाली आम आदमी पार्टी शून्य पर सिमटती दिखाई दे रही है।

हरियाणा व चंडीगढ़

सर्वे के मुताबिक हरियाणा में एकबार फिर से बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बन सकती है। बीजेपी को 49.42 पर्सेंट वोटों के साथ आठ सीटें मिलने का अनुमान है। वहीं, 28.34 पर्सेंट वोट के साथ कांग्रेस को दो सीटें मिलने की संभावना है। वहीं, आईएनएलडी और आम आदमी पार्टी के खाते में एक भी सीट आती नहीं दिख रही है। इसके अलावा चंडीगढ़ की सीट एक बार फिर से बीजेपी के हिस्से ही जाते दिखाई दे रही है|

छत्तीसगढ़

सर्वे के मुताबिक छत्तीसगढ़ में कांग्रेस दमदार वापसी करती दिखाई दे रही है। 48.18 पर्सेंट वोट शेयर के साथ उसे आठ सीटों पर जीत मिलने का अनुमान जताया गया है| वहीं, 44.8 फीसदी वोट शेयर के साथ बीजेपी को सिर्फ तीन सीटें मिलने की संभावना जताई गई है|

उत्तराखंड

सर्वे के मुताबिक उत्तराखंड में एकबार फिर से बीजेपी क्लीन स्वीप करती नजर आ रही है। वोट शेयर के लिहाज से बीजेपी को 53.2 फीसदी वोटों के साथ सभी सीटों पर जीत मिल सकती है। जबकि, 34.08 पर्सेंट वोट पाने के बावजूद कांग्रेस का खाता खुलना मुश्किल बताया जा रहा है।

गोवा

लोकसभा की 2 सीटें वाली गोवा में पिछले लोकसभा चुनाव में दोनों सीटों पर बीजेपी को ही जीत मिली थी। हालांकि, सर्वे के मुताबिक इस बार कांग्रेस और बीजेपी को एक-एक सीट मिलने का अनुमान है। इसके इतर दमन दीव की सीट बीजेपी तो दादरा नगर हवेली की सीट कांग्रेस के खाते में जाती दिख रही है।

तेलंगाना

सर्वे के मुताबिक तेलंगाना में एकबार फिर से केसीआर के जादू चलने की उम्मीद जताई जा रही है। वोट शेयर और सीटों के लिहाज से देखे तो टीआरएस को 43.6 पर्सेंट वोट शेयर के साथ 14 सीटें, बीजेपी को 14.3 पर्सेंट वोट शेयर के साथ शून्य सीट और कांग्रेस को 32.5 पर्सेंट वोट शेयर के साथ दो सीटें मिलने के आसार हैं। वहीं, इसके अलावा अन्य को दो सीटें मिलने के आसार हैं।

आंध्र प्रदेश

सर्वे के मुताबिक आंध्र प्रदेश में बीजेपी और कांग्रेस दोनों को ही तगड़ा झटका लग सकता है। वाईएसआर कांग्रेस पार्टी 20 सीटों के साथ एकतरफा जीत हासिल करती दिख रही है। बाकी की पांच सीटें टीडीपी के खाते में जा सकती हैं। वाईएसआर को 43.7 पर्सेंट, टीडीपी को 35.1 पर्सेंट वोट मिलने के आसार हैं।

कर्नाटक

कर्नाटक में भाजपा बढ़त बनाती हुई दिख रही है। सत्तारूढ़ कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन को 43.4 पर्सेंट वोट शेयर के साथ 12 सीटें तो बीजेपी को 45.1 पर्सेंट वोट शेयर के साथ 16 सीटें मिलने के आसार हैं।

केरल

सर्वे के मुताबिक केरल में वामपंथी मोर्चे को कांग्रेस के हाथों करारी हार का सामना करना पड़ सकता है। सर्वे में कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूडीएफ गठबंधन को 46.97 पर्सेंट वोट शेयर के साथ 15 सीटें तो लेफ्ट के गठबंधन को मात्र 28.11 पर्सेंट वोट शेयर के साथ सिर्फ दो सीटें मिलने की संभावना है। जबकि, एक सीट बीजेपी के खाते में भी जाती दिख रही है।

तमिलनाडु

टाइम्स नाउ और वीएमआर के सर्वे के मुताबिक तमिलनाडु में सत्तारूढ़ एआईएडीएमके को तगड़ा झटका लगता दिखाई दे रहा है। सर्वे के मुताबिक, एआईएडीएमके और बीजेपी के गठबंधन को मात्र छह सीटों से संतोष करना पड़ सकता है। वहीं, कांग्रेस और डीएमके गठबंधन को 33 सीटें हासिल हो सकती हैं। वोट प्रतिशत के लिहाज से अगर देखा जाएँ तो कांग्रेस गठबंधन को 53.12 पर्सेंट और बीजेपी गठबंधन को 39.61 पर्सेंट वोट मिलने के आसार हैं।