सावधानी हटी दुर्घटना घटी का प्रत्यक्ष उदाहरण है कोरोना की दूसरी लहर

आज कोरोना के चलते देश में हाहाकार मचा हुआ है देश के कई राज्यों में हर तरफ चितकार सुनाई दे रही है तो अव्यवस्था का आलम ये है कि आस्पताल से लेकर शवगृह तक सिर्फ कतार ही कतार है। जो भारत कोरोना की पहली लहर में सबसे ज्यादा सजग दिख रहा था वो आज इस गति तक क्यो पहुंच गया आखिर इसके पीछे की वजह क्या है क्या हमने इसके बारे में विचार किया है।

मानवीय लापरवाही का नतीजा सामने आया

आज देश में एकाएक कोरोना के मामले जो बढ़े है उसमें सबसे ज्यादा गली अगर किसी बात की है तो वो हम नागरिकों से ही हुई है। क्योकि कोरोना वैक्सीन आने के बाद हमारे पीएम मोदी दवाई और कढ़ाई की बात करते रहे। लेकिन दवाई आने के बाद हम खुद कढ़ाई करने में फेल हुए समाजिक दूरी बनाकर चलना मुंह में मास्क लगाना मानो जैसे कुछ जगाहो में तो खत्म ही हो गया हो। उसपर कुछ राज्यों की सरकारों द्वारा कोरोना को लेकर उदासीनता अपनाना भी इस बीमारी के फैलने का कारण बना। जबकि केंद्र लगातार कोरोना को लेकर राज्य सरकारों को गाइडलाइन फॉलो करने की बात करता जा रहा था लेकिन राज्य उनकी बातो की तरफ इतना ध्यान नही दे रहे थे। जिससे कुछ जगह पर आज कोरोना महामारी की हालात काफी खराब हो गई है। ऐसे में सिर्फ ये बोल देना की चुनाव होने के चलते मामले बढ़ रहे है तो गलत होगा क्योकि जिन राज्यों में चुनाव का कोई वास्ता नही है वही मामले काफी आ रहे है। लेकिन हां आज जो स्थिति बनी है ऐसे में चुनाव प्रचार पर भी सरकारों को कुछ ठोस कदम उठाना चाहिये जिससे कोरोना महामारी पर लगाम लगाई जा सके।

सियासत छोड़ सबको मिलकर उठाने होंगे कदम

दूसरी तरफ जो हालात अब बन गये है उसे देखते हुए हम सब को एक साथ मिलकर काम करना चाहिये। वैसे ये बात भी सच है कि जब पिछले साल मोदी सरकार ने कोरोना को रोकने के लिये पूरी कमान अपने हाथ में ले रखा था तो मामले इतनी तेजी से नही बढ़ रहे थे। तब कुछ लोग राज्यों को ज्यादा पावर देने की बात कर रहे थे लेकिन आज जब राज्यों के पास ज्यादा पावर है तो वो इससे निपटने में कामयाब नही हो पा रहे है। लेकिन इस बीच अब खुद पीएम मोदी ने कामन संभाली है खुद सीएम और राज्यों के राज्यपालों से बात करके उन्होने जरूरी सुविधा लोगो तक पहुंचा शुरू कर दिया है। इसमे महाराष्ट्र में ऑक्सीनज हो या फिर इंदौर में दवाई तुरंत भेजी जा रही है जिससे कोरोना पर रोक लग सके। इसके साथ साथ मोदी सरकार लगातार स्थिति पर नजर बनाये हुए है जिससे हालात जल्द से जल्द ठीक हो सके। इसके लिये टीकाकरण में तेजी लाने की तैयारी की जा रही है।

वैसे जो हालात आज बनकर उभरे है ऐसे में अब हमें और ज्यादा सजग होना चाहिये जिससे कोरोना को हम हरा सके और इसके लिये हमें सरकार की गाइडलाइंस को पूरी तरह से मानना ही होगा। फिर वो चाहे राज्य सरकार की हो या फिर केंद्र सरकार की क्योकि ऐसा करने से ही हम अपना कल कोरोना से बचा पायेगे।