मंहगाई के बीच सरकारी कर्मचारियों के लिए एक राहत भरी खबर

देश में मंहगाई बढ़ी हुई है इस बात को मोदी सरकार भी मानती है और इसको रोकने के लिए लगातार कदम भी उठा रही है जिससे मंहगाई पर लगाम लगाई जा सके। इस बाबत जहां मोदी सरकार ने पहले गरीब लोगों को फ्री में अनाज देने की योजना को 6 महीने आगे बढ़ा दिया तो अब केंद्रीय कर्मचारियों के डीए को 3 फीसदी बढ़ाकर बड़ी राहत दी है। 

मोदी सरकार ने बढ़ाया डीए

केंद्र के 50 लाख से अधिक सरकारी कर्मचारी और 65 लाख से अधिक पेंशनर्स के लिए अच्छी खबर है। क्योकि मोदी कैबिनेट ने उनके डीएम में 3 फीसदी की बढ़ोत्तरी कर दी है। नए वित्तीय वर्ष के शुरू होने से पहले कर्मचारियों का डीए 31% से बढ़ कर 34% हो गया है जिसे मंहगाई के इस दौर में एक राहत भरी खबर कही जा सकती है। लेबर मिनिस्‍ट्री के आंकड़ों के मुताबिक, नवंबर 2021 में AICPI-IW सूचकांक में 0.8% की तेजी आई थी और यह 125.7 पर पहुंच गया था। उससे साफ हो गया था महंगाई भत्ते में 3 फीसदी का इजाफा होगा। अब दिसंबर 2021 के आंकड़े में भले ही मामूली गिरावट आई है, लेकिन जनवरी 2022 से DA में 3% की बढ़ोतरी का ऐलान हो गया है। वैसे खुद पीएम मोदी ने लोकसबा में भाषण देते हुए ये कबूला था कि देश में मंहगाई चरम पर है लेकिन उसका ठिकरा उन्होने दूसरे पर नहीं डाला बल्कि इससे राहत दिलाने के फार्मूले पर सरकार काम कर रही है ये जनता तक बताया।

मंहगाई से निपटने के लिये जुटी सरकार

पहले कोरोना की मार फिर रूस और यूक्रेन के बीच छिड़ी जंग के कारण भारत ही नही समूचे विश्व में महंगाई का आलम देखा जा सकता है। आंकड़ो पर नजर डाले तो इस जंग से करीब समूचे विश्व का 60 लाख करोड़ डॉलर का नुकसान हो चुका है। ऐसे में मंहगाई से भारत भी अछूता नही रह सकता है। लेकिन अगर हम आज दुनिया के देशों को देखे तो भारत उनसे कही ज्यादा मजबूत स्थिति में है। क्योकिं जहां अमेरिका अनाज की कमी की बात खुलकर अपने देश वासियों से कर रहा है तो भारत अपने गरीब लोगों को 6 महीने फ्री अनाज दे रहा है। दुनिया के देशों में कच्चे तेल के दामो में करीब 75 फीसदी का इजाफा देखा जा रहा है। तो भारत में ये महज अभी करीब 25 फीसदी के करीब पहुंचा है और ये इसलिये हो रहा है क्योकि भारत ईरान और रूस से सस्ते दामो में तेल खरीद रहा है। दूसरी तरफ भारत आत्मनिर्भर अभियान के तहत अपने आपको मजबूत बना रहा है।जिससे आज देश आयात कम और निर्यात ज्यादा कर रहा है। इस वजह से भी देश में मंहगाई सूरसा की तरह मुंह नहीं खोल रही है।

खुद सरकार भी इस बाबत लोगों को आगाह कर चुकी है लेकिन लगातार लोगों को राहत देने के लिये काम में भी जुटी है जिसका असर आगे आने वाले महीनो में देखने को मिल सकती है।