कोरोना को लेकर थोड़ी सुकून भरी खबर

हर दिन कोरोना के ऑकड़े हमारे भय को बढ़ा रहे है लेकिन कोरोना को लेकर मंगलवार जरूर मंगल खबर लेकर आया है जिससे देशवासियों को थोड़ा सुकून जरूर मिलेगा। क्योकि कोरोना संक्रमण के कदम थमने के शुरुआती संकेत मिलने लगे हैं। दिल्ली, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश समेत कुछ राज्यों में दैनिक संक्रमण के मामलों में या तो गिरावट दिख रही है या फिर इनमें स्थिरता आ गई है।

ऑकड़ों में थोड़ा गिरा कोरोना

सरकार के ऑकड़ो की माने तो 21 अप्रैल को नए मामलों की तुलना में सिर्फ 57 फीसद मरीज ठीक हुए थे,  लेकिन तीन मई को ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 82 फीसद हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, उत्तर प्रदेश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ते हुए 27 अप्रैल को संक्रमितों का आंकड़ा 34 हजार को भी पार गया था। बाद में बढ़ने का सिलसिला थमा और कुछ गिरावट के साथ दो मई को यह संख्या 33 हजार पर आ गई। इसी तरह दिल्ली में 25 अप्रैल को पीक पर पहुंचने के बाद दो मई तक नए मामलों में एक हजार की गिरावट दर्ज की गई है। छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र में भी संक्रमण का यही ट्रेंड दिखा है। मध्य प्रदेश, पंजाब, तेलंगाना और गुजरात में नए मामलों में बढ़ोतरी थम गई है।

लेकिन न बरतें लापरवाही

अभी राहत के संकेत शुरुआती हैं। राज्य बचाव के कदम इसी तरह उठाते रहे तो संक्रमण पर नियंत्रण पाया जा सकता है। अभी निश्चिंत होकर नहीं बैठ सकते हैं। कुछ राज्यों में बढ़ते मामले अब भी चिंता का कारण हैं। ऐसे में किसी भी तरह की लापरवाही स्थिति को बिगाड़ सकती है। इसलिये देश के हर व्यक्ति को अभी कोरोना गाइनडलाइन का पालान तो करना ही चाहिये साथ में वैक्सीन भी जरूर लगवानी चाहिये। वही सरकार ने साफ किया कि देश में वैक्सीन की कमी नही है। राज्यों के पास पर्यात वैक्सीन है और एक दो दिन में केंद्र उन्हे और वैक्सीन देने वाला भी है। ऐसे में ये साफ है कि कोरोना से जंग में हम थोड़ी बढ़त तभी पायेगे जब वैक्सीनेशन ठीक से समूचे देश में हो सकेगा इस लिये वैक्सीनेशन में बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले।

दिल्ली में थमी कोरोना की रफ्तार, चार महीने में सबसे कम एक्टिव केस, रिकवरी  रेट भी बढ़ा - In Delhi lowest number of active corona patients in last 4  months - AajTak

सरकारी ऑकड़ो को माने तो ये बस यही बता रहे है हमारे कदम ठीक तरफ बढ़ चले है लेकिन कोरोना से जंग अभी लंबी लड़नी है जिससे ये आने वाले दिनो में विकराल रूप न रख सके।