सरकार की नीतियों की जानकारी देने के लिए 38 केंद्रीय मंत्रियों का कश्मीर दौरा आज से

38 Union Ministers visit Kashmir to inform government policies

सरकार की विकास नीतियों की जानकारी देने के लिए 38 केन्द्रीय मंत्रियों का एक सप्ताकह का जम्मू-कश्मीर दौरा आज से शुरू हो रहा है। मोदी सरकार के तीन मंत्री आज जम्मू पहुंचेंगे और अलग-अलग इलाकों में जाकर लोगों को आर्टिकल 370 और 35A के फायदे के बारे में जागरूक करेंगे। इसी के साथ ये मंत्री लोगों को CAA और NRC के बारे में भी जागरूक करेंगे। सरकार के इस प्लानिंग के तहत अलग-अलग केंद्रीय मंत्री 60 विभिन्न स्थागनों पर जाएंगे। इस दौरान केंद्रीय मंत्री लोगों को मोदी सरकार की ओर से जम्मू-कश्मीर के लिए उठाए गए महत्वपूर्ण कदमों के बारे में जानकारी देंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर के दौरे पर जाने वाले मंत्रियों से कहा कि वे वहां शहरी इलाकों में ही नहीं बल्कि घाटी के गांवों में भी लोगों के बीच विकास का संदेश फैलाएं।

विकास कार्यों की जानकारी देंगें मंत्री

18 से 24 जनवरी के बीच 38 केंद्रीय मंत्री संघ शासित प्रदेश के दोनों संभागों का दौरा करेंगे और गृह मंत्रालय इसका समन्वय करेगा। इनमें से 51 दौरे जम्मू के और आठ दौरे श्रीनगर के होंगे। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी रियासी जिले के कटरा और पंथाल इलाके का दौरा 19 जनवरी को करेंगी। इसी दिन मंत्रिमंडल में उनके सहयोगी रेल मंत्री पीयूष गोयल श्रीनगर जाएंगे।

गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी 22 जनवरी को गांदरबल और 23 जनवरी को मनीगाम का दौरा करेंगे। कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद 24 जनवरी को बारामूला जिले के सोपोर जाएंगे। वी के सिंह का 20 जनवरी को उधमपुर के टिकरी जाने का कार्यक्रम है, जबकि किरण रिजिजू 21 जनवरी को जम्मू के सुचेतगढ़ जाएंगे।

इसी तरह केंद्रीय मंत्री आर के सिंह डोडा जिले के खेलानी जाएंगे और श्रीपद नाइक श्रीनगर के एसकेआईसीसी में बैठक करेंगे। इनके अलावा केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर, गिरिराज सिंह, प्रहलाद जोशी, रमेश पोखरियाल निशंक और जीतेंद्र सिंह उन मंत्रियों में शामिल है जो जम्मू-कश्मीर के विभिन्न जिलों का दौरा करेंगे।

इस दौरे का उद्देश्ये जम्मू कश्मीदर और इसके लोगों के समग्र विकास के लिए पिछले पांच महीनों में उठाये गये सरकार के कदमों की जानकारी देना है। केंद्रीय मंत्री, लोगों को मौजूदा और लागू की जाने वाली योजनाओं के बारे में बताएंगे।

ये मंत्री जिन पांच मुख्य मुद्दों के बारे में लोगों को बताएंगे वे हैं–जून-2018 में प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लागू होने के बाद और अगस्त् 2019 में इसके पुनर्गठन के बाद हुआ तीव्र विकास, 55 कल्याणकारी योजनाओं का लाभ जम्मू कश्मीर के सभी निवासियों को दिलाना, प्रधानमंत्री विकास पैकेज के कार्यान्वयन सहित आधारभूत ढांचे का तीव्र विकास, प्रमुख योजनायें, सुशासन, सबके लिए अवसर की समानता के साथ कानून का शासन और आमदनी तथा रोजगार पर ध्याेन केंद्रि‍त करते हुए सभी क्षेत्रों में तीव्र औद्योगिक और आर्थिक विकास।

मुख्य सचिव, बी०वी०आर० सुब्रहमण्यम ने केंद्रीय मंत्रियों के दौरे में समन्वकय के लिए संभागीय और जिला आयुक्तों को दिशा-निर्देश जारी किए हैं ताकि लोगों से जुड़ने के कार्यक्रम सही तरीके से आयोजित हों और इसमें पंचायतों के प्रतिनिधि और आम आदमी शामिल हों।