प्रधानमंत्री किसान संपदा योजना के तहत 406 करोड़ की 32 परियोजनाओं को मंजूरी

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा शुरू की गयी प्रधान मंत्री किसान सम्पदा योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों की आय को बढ़ाना है। इस योजना के अंतर्गत किसानों की फसल का नुकसान ना हो यानी कि कृषि बर्बादी कम हो तथा किसानों को उचित मूल्य पर अपनी फसल बेचने का मौका मिल सके, ऐसी व्यवस्था लागू करना है।

प्रधानमंत्री किसान संपदा योजना के तहत 406 करोड़ रुपये की 32 परियोजनाओं को मंजूरी प्रदान की गयी है। खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री हरसिमरत कौर बादल की अध्यक्षता में अंतर-मंत्रालयी स्वीकृति समिति की दो अलग-अलग बैठकों में इन परियोजनाओं को मंजूरी दी गयी। मंत्रालय ने आज बताया कि एक बैठक 21 फरवरी को और दूसरी 26 फरवरी को हुई थी। ये 32 परियोजनायें देश के 17 राज्यों में होंगी और इनमें ग्रामीण क्षेत्रों के 15 हजार लोगों को रोजगार मिलने की उम्मीद है।

मंत्रालय ने बताया कि किसान संपदा योजना का उद्देश्य खाद्य प्रसंस्करण एवं संरक्षण क्षमता का निर्माण और पहले से तैयार खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों का आधुनिकीकरण है जिससे प्रसंस्करण का स्तर और मूल्यवर्द्धन बढ़े तथा कृषि उपज की बर्बादी कम हो। उसने बताया कि खाद्य प्रसंस्करण उद्योग का कारोबार वर्ष 2016 में 322 अरब डॉलर का था जिसके 2020 तक 14.6 फीसदी की दर से बढ़ते हुये 543 अरब डॉलर पर पहुँचने की उम्मीद है। इससे पहले पाँच साल में इसकी विकास दर आठ फीसदी रही थी।

आधुनिक प्रसंस्करण तकनीकों से कृषि उपज को ज्यादा दिन सुरक्षित रखा जा सकता है, जिससे किसानों की आमदनी बढ़ेगी। घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में भारतीय किसानों को उपभोक्ताओं से जोड़ने में खाद्य प्रसंस्करण की महत्वपूर्ण भूमिका है। खाद्य प्रसंस्करण उद्योग अर्थव्यवस्था की दिशा में बेहतर योगदान के लिए किसानों, सरकार और बेरोजगार युवाओं के बीच कड़ी का काम कर सकता है। खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय के माध्यम से भारत सरकार व्यवसाय में निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए सभी प्रयास कर रही है।

गौरतलब है की खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय ने 2016-20 की अवधि के लिए 6,000 करोड़ रुपये की लागत से पीएमकेएसवाई योजना शुरू की है। इसके तहत मेगा फूड पार्क लगाने, इंटीग्रेटेड, मूल्यवर्धन अवसंरचना, कृषि प्रसंस्करण क्लस्टरों के लिए अवसंरचना विकास तथा अन्य कई तरह की सुविधाएं शुरू की गई हैं।

किसान संपदा योजना के लाभ:

 पीएमकेएसवाई के कार्यान्‍वयन से आधुनिक आधारभूत संरचना का निर्माण और प्रभावी आपूर्ति श्रृंखला तथा फार्म के गेट से खुदरा दुकान तक प्रभावी प्रबंधन हो सकेगा।
 इससे देश में खाद्य प्रसंस्‍करण को व्यापक बढ़ावा मिलेगा।
 इससे किसानों को बेहतर मूल्ये पाने में मदद मिलेगी और यह किसानों की आमदनी दोगुना करने के दिशा में एक बड़ा कदम है।
 इससे रोजगार के बड़े अवसर विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में उपलब्ध हो सकेंगे।
 इससे कृषि उत्पाबदों की बर्बादी रोकने, प्रसंस्क‍रण स्तर बढ़ाने, उपभोक्तआओं को उचित मूल्य पर सुरक्षित और सुविधाजनक प्रसंस्कृत खाद्यान्नं की उपलब्धता के साथ प्रसंस्कृत खाद्यान्‍न का निर्यात बढ़ाने में मदद मिलेगी।
 किसानों की फसल बर्बाद होने से बच जाएगी
 किसानों को अपनी फसल का उचित मूल्य मिलेगा
 वह गरीबी स्तर से ऊपर उठ पाएंगे
 किसानों का भविष्य उज्जवल होगा

PC – Google

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •