MODI 2.0 के 100 दिवसीय एजेंडे में 167 परिवर्तनकारी प्लान

100 day agenda of MODI 2.0

MODI 2.0 ने 100 दिवसीय एजेंडा तैयार किया है जिसके अंतर्गत 167 ‘परिवर्तनकारी विचारों’ की एक लिस्ट तैयार की गई है| सरकार ने अपने कार्यकाल के पहले 100 दिन में इस लिस्ट को पूरा करने का लक्ष्य तय किया है| इस अजेंडे के अंतर्गत कई योजनायें है जिसे पूरा करने की कवायद शुरू की जा चुकी है|

बता दें कि MODI 2.0 सरकार के 100 दिन 15 अक्टूबर को पुरे हो जायेंगे| इन 167 परिवर्तनकारी विचारों को लागु करने के लिए सरकार मंत्रियों के साथ राय-विचार करके 100 दिन के कार्यक्रम की योजना तैयार करेगी जिसके लिए कैबिनेट सेक्रेटरी प्रदीप सिन्हा ने बीते 10 जुलाई को सभी क्षेत्रीय सचिवों को इस विषय से सम्बन्धित सन्देश भी भेज दिया है|

100 दिन के अजेंडे की निगरानी करेंगे कैबिनेट सेक्रेटरी

सूत्रों के मुताबिक इन परिवर्तनकारी विचारों को लागु करने हेतु पहले इन पर सम्बंधित मंत्रालयों द्वारा उनके विचार प्रस्तुत किये जायेंगे| फिर इन विचारों पर उच्च स्तरीय बातचीत की जाएगी और ऐसे कामों की सूचि तैयार की जाएगी जिन्हें 100 दिनों के अन्दर पूरा किया जायेगा| इन 167 विचारों पर चल रहे अध्ययन की निगरानी संबंधित मंत्रालयों के सचिव करेंगे जो हर शाम 5 बजे तक कार्य की स्टेटस रिपोर्ट कैबिनेट सेक्रेटरी को सौपेंगे| सभी मंत्रालयों को कार्य की प्रगति दर्शाने वाले डैशबोर्ड्स लगाने को भी कहा गया है ताकि इन पर सबकी नजर रहे|

प्रोजेक्ट्स जिन्हें 100 दिन में पूरा करना होगा

सूत्रों के मुताबिक 100 दिन में पुरे होने वाले प्रोजेक्ट्स में ज्यादातर प्रशासनिक सुधार के कामों को शामिल किया गया है| सरकार का उद्देश्य है की केंद्रीकृत सार्वजनिक शिकायत निवारण एवं निगरानी व्यवस्था की हालत को बिलकुल दुरुस्त रखा जाये ताकि जनता को अपनी परेशानी व शिकायत दर्ज करवाने में कोई दिक्कत न आये| साथ ही इन शिकायतों का निवारण भी निर्धारित समय पर और सही तरीके से हो पाए|

PM मोदी की डिजिटल सरकार बहुत जल्द नैशनल ई-सर्विसेज डिलिवरी असेसमेंट और केंद्रीय सचिवालय के लिए एक नए कार्यालय मैन्युअल और प्रोसीजर तैयार करेगी|

उच्च शैक्षणिक संस्थानों में खाली पड़े 3 लाख फैकल्टी पदों पर बहाली

सभी मंत्रालयों को उनके सम्बंधित कार्यो की जिम्मेदारी सौप दी गयी जिसके अंतर्गत मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय को खाली पड़े 3 लाख फैकल्टी पर 100 दिनों के अन्दर शिक्षकों की नियुक्ति के निर्देश दिए गए है|

वहीँ दूसरी तरफ संस्कृति मंत्रालय को नेहरू स्मारक और पुस्तकालय में देश के प्रधानमंत्रियों का म्यूजियम ढांचा तैयार करने का आदेश दिया गया है| इसके साथ ही संस्कृति मंत्रालय को लाल किले पर तीन नए बैरक म्यूजियम के उद्घाटन और महात्मा गांधी की 150वीं जयंती समारोह से सम्बंधित महत्वपूर्ण कार्यों की जिम्मेदारी सौंपी गयी है|

सूत्रों की मानें तो इस 100 दिवसीय एजेंडे की तैयारी लोकसभा चुनाव के समय से ही हो रही है| इस अजेंडे के पीछे प्रधानमंत्री की मंशा है कि वो जनता से किये अपने वादे को जल्द से जल्द पूरा कर सकें|

प्रधानमंत्री मोदी का अपने कैबिनेट मंत्रियों को ये भी निर्देश है कि कोई भी योजना अपने निर्धारित समय पर अथवा उससे पहले ही पूर्ण हो| इन एजेंडों को पूरा करने में किसी भी तरह का निलंबन बर्दाश्त नहीं किया जायेगा|