170 विमानों के लिए 1.5 लाख करोड़ की डील – वायुसेना के लिए मेक इन इंडिया के तहत निर्माण

Indian_Air_Force_Deal_Under_Make_In_India

बीते हफ्ते भाजपा सरकार ने अपने दुसरे कार्यकाल का पहला बज़ट लोकसभा में पेश किया था| निर्मला सीतारमण के बज़ट में हर वर्ग के लोगों के लिए सौगात थी| इस आम बज़ट के ज़रिये भारतीय वायुसेना का लम्बे समय से रुका हुआ मेक इन इंडिया के तहत 2 प्रोजेक्ट्स भी बहुत जल्द पूरा होने जा रहा है| भारतीय वायुसेना अपने इन प्रोजेक्ट्स को अंतिम रूप देने में जुट गयी है|

भारतीय वायुसेना के इन प्रोजेक्ट्स की कुल लागत 1.5 लाख करोड़ रुपये है जिसके तहत वायुसेना को 170 एयरक्राफ्ट मिलेंगे| इसमें 56 मीडियम ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट भारतीय वायुसेना को इसी साल मिल जायेगा और बकाया 114 फाइटर जेट अगले कुछ सालों में वायुसेना के बेड़े में शामिल होंगे|

सूत्रों के मुताबिक भारतीय वायुसेना को सितम्बर में फ्रांस से 59,000 करोड़ रुपये के करार के तहत 4 राफेल विमान मिलेंगे| इसके साथ ही वायुसेना 114 अन्य फाइटर जेट्स के प्रॉजेक्ट्स के रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल के लिए भी कोशिश कर रही है|

सूत्रों का कहना है कि, “114 फाइटर जेट्स का प्रॉजेक्ट महत्वपूर्ण है क्योंकि 36 राफेल विमान और स्वदेशी तेजस के जरिए वायुसेना की जरूरतों को पूरा नहीं किया जा सकता| फ़िलहाल वायुसेना के बेड़े से बड़े पैमाने पर पुराने विमान रिटायर हुए हैं| इसलिए भविष्य की तैयारियों के लिए यह सौदा बेहद अहम् है|”

फ्रांस की ओर से भारत को मिलने वाले 36 राफेल विमान सितंबर, 2019 से अप्रैल 2022 के दौरान मिलेंगे जिनमे पहले 4 एयरक्राफ्ट जल्द मिलेंगे| जिनके लिए 10 पायलटों, 10 फ्लाइट इंजिनियर्स और 40 टेक्निशियंस की फ्रांस में ट्रेनिंग होगी| इन राफेल विमानों को अम्बाला के एयरबेस में तैनात किया जायेगा|

देश की सुरक्षा के नज़रिए से मेक इन इंडिया के तहत ये प्रोजेक्ट्स बहुत ज्यादा महत्वपूर्णहैं और ज़ाहिर सी बात है सरकार की कोशिश यही रहेगी कि इन प्रोजेक्ट्स को जल्द से जल्द पूरा किया जाये और इसीलिए इस बार सरकार की बज़ट से भारतीय वायुसेना के लिए ये सौगात बेहद अहम् है|